The news is by your side.

कोविड-19 वैक्सीन लगाने वाले फर्जी डॉक्टर भेजे गए जेल

-स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच पड़ताल में जुटी

बाराबंकी। गुरुवार को ज़ैदपुर पुलिस व स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम द्वारा कोविड-19 वैक्सीनेशन लगाने वाले निजी क्लीनिक पर छापामारी की थी। जहां पर स्वास्थ्य विभाग की टीम को तीन सुई एक वायल व फर्जी कूट रचित वैक्सीनेशन कार्ड के साथ दो लोगों को मौके से धरदबोचा था। सतरिख अधीक्षक की तहरीर पर ज़ैदपुर पुलिस ने दोनों फर्जी डॉक्टरों पर संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया था। और शुक्रवार को दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया।

Advertisements

ब्रहस्पतिवार को ज़ैदपुर पुलिस व सतरिख स्वास्थ्य विभाग की टीम में शामिल डॉक्टर सुनील कुमार जायसवाल व प्रतिरक्षण अधिकारी डॉक्टर राजीव सिंह,कोल्ड चैन हैंडलर अजय कुमार वर्मा द्वारा ज़ैदपुर थाना क्षेत्र के गोछौरा मज़रे पनिहल गाँव मे जनता मिल्टस्पेसलिस्टी आरोग्य सदन के नाम से एक सरकारी शौचालय में फर्जी किलीनिक चला रहा था। लेकिन स्वास्थ्य विभाग की नज़र इस पर नही पड़ रही थी। इधर कई दिनों से इस किलीनिक पर कोरोना वैक्सीन लगाए जाने की सूचना सतरिख अधीक्षक को मिल रही थी। सूचना के आधार जब टीम ने में झोलाछाप डॉक्टर के निजी किलीनिक पर छपामारी की तो उसके पास तीन सुई एक वायल व कूट रचित वैक्सीनेशन कार्ड मिला था। और मौके से कोठी थाना क्षेत्र ब्रजेन्द्र कुमार पुत्र जगजीवन प्रसाद व संदीप कुमार पुत्र राममिलन थाना पटरंगा जिला अयोध्या को गिरफ्तार किया था।

पुलिस ने आरोपी के विरुद्ध संबंधित धाराओं में केस दर्ज कर शुक्रवार को न्यायालय में पेश किया। जहां से उन्होंने जेल भेज दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग की टीम पूरे मामले की जांच कर रही है। कि यह फर्जी वैक्सीन और वैक्सीनेशन कार्ड इनको कहां से मिले थे। इसके लिए अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी की टीम जांच पड़ताल कर रही है।

इसे भी पढ़े  प्रो. गोविन्द जी पाण्डेय बने विजुअल कल्चर वर्किंग ग्रुप के उपाध्यक्ष

इस संबंध में थाना प्रभारी निरीक्षक धर्मेंद्र सिंह रघुवंशी ने बताया कि सतरिख अधीक्षक की तहरीर पर पुलिस ने संबंधित धाराओं में केस दर्ज किया गया। और दोनो को जेल भेज दिया गया।

Advertisements

Comments are closed.