लेखपालों की हड़ताल से तहसील का काम हुआ बाधित

    तहसील के बाहर किया प्रदर्शन

    Advertisement

    फैजाबाद। उ.प्र. लेखपाल संघ ने अपनी विभिन्न मांगो को लेकर कार्य वहिष्कार आन्दोलन किया। लेखपाल आन्दोलन के कारण तहसील का कार्य बाधित रहा। सदर तहसील के सामने आन्दोलित लेखपालों ने नारा लगाते हुए धरना प्रदर्शन किया। तहसील सदर में धरने की अध्यक्षत तहसील अध्यक्ष प्रदीप कुमार तिवारी व संचालन तहसील मंत्री राम अभिलाख यादव ने किया। धरना स्थल पर हुई सभा को संघ के जिलाध्यक्ष अमर नाथ पाण्डेय, जिला मंत्री जय नारायण तिवारी, बद्री नाथ उपाध्याय, पूजा वर्मा, सुनील कुमार, सर्वा कुमार सिंह, अजय सिंह, विरेन्द्र सिंह, ललित कुमार मिश्रा, हरीराम मौर्य, गोमती पाण्डेय आदि ने सम्बोधित किया।
    सोहावल संवाददात के अनुसार हड़ताल पर बैठे लेखपालों के चलते तहसील स्तर पर कामकाज लगभग ठप हो गया। ग्रामीण खतौनी के लिये तो छात्र छात्राएं आय जाति निवास जैसे प्रमाण पत्रों के लिये भटकते रहे और परेशान मिले। राम नगर धौरहरा निवासी छात्र जीत बहादुर यादव को आई आई टी में प्रवेश के लिये जाति प्रमाण पत्र की आवश्यकता थी। विगत २१ जून को ऑनलाइन आबेदन के बावजूद लेखपाल ने हड़ताल का हवाला देकर रिपोर्ट नहीं लगायी। छात्र ने एस डी एम से शिकायत किया लेकिन सुनवायी नहीं हुयी। पण्डितपुर निवासी राज नाथ पाण्डेय ने बताया कि खतौनी की नक़ल निकलवानी थी। सुबह से इसकी खिड़की नहीं खुली औरआबेदन ही नहीं लिया गया। तहसील दिवस पर भी आये राजस्व सम्बन्धी कई मामले लेखपालों की अनुपस्थिति से निस्तारित नहीं हो पाये। पूछे जाने पर तहसीलदार मंसूर अहमद अंसारी ने बताया कि खतौनी सिस्टम में कमी आ जाने से नहीं मिली, कल से मिलने लगेगी। हड़ताल से इसका लेना देना नहीं है। लेखपालों पर हड़ताल के दौरान कार्य करने को हम बाध्य नहीं कर सकते। इसके लियेे जबाब देह लेखपाल संघ के पदाधिकारी ही होंगे।