ग्राम प्रधान पर हमले व लूट प्रकरण को लेकर एसएसपी से मिले ग्रामीण

    • बताया हमला व लूट का मामला फर्जी, जांच की मांग

    • एसएसपी ने उचित कार्रवाई करने का दिया आश्वासन

    Advertisement

    फैजाबाद। कोतवाली अयोध्या अंतर्गत गांव बिजलियाडीह तकपुरा गांव के प्रधान पर हमले व लूट के मामले में ग्रामीणों ने बुधवार को एसएसपी से मिलकर मामले को फर्जी बताते हुए जांच कराने की मांग की है। शिकायती पत्र में उक्त गांव निवासी रामअचल यादव ने आरोप लगाया कि उनका तकपुरा गांव प्रधान से ईट भट्टे की जमीन को लेकर विवाद है, इसी के चलते उनके परिवार के लोगों को फर्जी फंसाया गया है। एसएसपी ने मामले में निष्पक्ष जांच कराने का आश्वासन दिया है।
    रामअचल ने एसएसपी को बताया कि उन्होंने अपनी जमीन पर ईट भट्ठा लगाने के लिए बृजेंद्र कुमार निवासी तकपुरा को २० वर्ष के लिए एग्रीमेंट पर दिया था। बृजेंद्र के परिवार में आपसी विवाद के कारण बंटवारे में उक्त भट्ठा उनके भाई हृदयराम वर्मा के हिस्से में आया। एग्रीमेंट के हिसाब से सितंबर में उसका समय पूरा हो रहा है, इसमें तय हुआ था कि जब वो भट्ठा हटाएंगे तब जमीन जैसी ली है उसी हालत में सौंपेंगे। वर्तमान में भट्ठा हटाते समय जब उनसे जब जमीन बराबर करने की बात कही गई तो वो मना करते हुए मारपीट पर उतारू हो गए। सोमवार को हृदयराम वर्मा के पुत्र व तकपुरा ग्राम प्रधान अपने साथियों के साथ वहां आए और मतारपीट की, शोर शराबा मचने पर ग्रामीणों के आने पर वह वहां से भाग निकले। आरोप लगाया कि इसके बाद संदीप ने कोतवाली अयोध्या में अपने साथ मारपीट व सोने की चेन लूटने का आरोप लगाते हुए उनके परिवार के सात सदस्यों पर फर्जी केस दर्ज करा दिया गया। उन्होंने लूट की बात को फर्जी बताते हुए जांच कराने की मांग की है। उनके शिकायती पत्र पर एसएसपी डॉ. मनोज कुमार ने उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। एसएसपी से मिलने वालों में रक्षाराम यादव, शमशेर यादव, विनय यादव, दीपक यादव, प्रदीप यादव, राजाराम यादव, अमन यादव समेत अन्य शामिल रहे।