in

व्यापारियों की आपत्तियों को प्राधिकरण सचिव को सौंपा

अयोध्या। व्यापार अधिकार मंच के संयोजक व भाजपा नेता सुशील जायसवाल ने अयोध्या विकास प्राधिकरण की महायोजना 2031 के अंतर्गत प्रस्तावित मास्टर प्लान में आपत्ति के सन्दर्भ में प्राधिकरण के सचिव डा संजीव कुमार से मुलाकात की। उन्होने व्यापारियों द्वारा की गयी आपत्तियों को प्राधिकरण के सचिव को सौंपा।

व्यापारी नेता सुशील जायसवाल ने बताया कि प्रस्तावित मास्टर प्लान में नियांवा से बेनीगंज, गांधी पार्क से चौक, चौक से फतेहगंज 30 मीटर, फतेहगंज से मकबरा, मकबरा से नाका, डाकखाना चौराहे से देवकाली 45 मीटर, रिकाबगंज से कसाबबाड़ा 30 मीटर प्रस्तावित है। बेनीगंज से देवकाली तिराहा, टेढ़ी बाजार से श्रीराम अस्पताल 45 मी व श्रीराम अस्पताल से नया घाट 30 मीटर प्रस्तावित है। उन्होने बताया कि इसको लेकर आपत्ति प्रस्तुत की गयी कि इसमें हजारो व्यापारियों के प्रतिष्ठान व आवासीय मकान है। इसको लेकर आवश्यकतानुसार 20 से 25 प्रतिशत ही बढ़ाया जाय। जहां पैदल पथ न हो वहां पर पैदल पथ का निर्माण कर आवागमन सुगम किया जाय। सड़को के किनारे मार्ग अवरुद्ध करने वाले बिजली के खम्भो एवं तारों के जंजाल को जमीन के भीतर से ले जाया जाय।

जाम लगने वाले स्थानों पर फ्लाईओवर बनाया जाय। सम्भव हो तो इनर फ्लाई ओवर रिंग रोड बनाकर उसे आउटर से रोड से जोड़ा जाय। शहर के मुख्य व्यापारिक मार्ग पर पाकिंग की व्यवस्था की जाय एवं मुख्य मार्ग को व्यवसायिक क्षेत्र घोषित किया जाय। ई रिक्शा व टैम्पों के स्टैण्ड की व्यवस्था की जाय तथा उनकी संख्या को निर्धारित किया जाय। वेडिंग जोन बनाकर पटरी दुकानदारों को स्थापित किया जाय। घोषित डूब क्षेत्र को आवासीय व व्यवसायिक बनाकर शहर को विस्तार दिया जाय।

बंधा बन जाने से कोई डूब क्षेत्र नहीं रह गया। रिंग रोड़ को नेशनल हाईवे से जोड़ दिया जाय। नदी के बंधा के किनारे फोर लेन या सिक्स लेन बनाते हुए आउटर रिंग रोड़ व नेशनल हाईवे से इसे जोड़ दिया जाय। इस अवसर पर विश्व प्रकाश रुपन, रमेश जायसवाल, कमल कौशल, प्रशांत जायसवाल, शैलेन्द्र सोनी रामू, राजेश जायसवाल मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  अवध विवि व अदम्य चेतना के संयुक्त संयोजन में सीता अशोक पौधों का रोपण

What do you think?

Written by Next Khabar Team

केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी के कार्यक्रम स्थल का सांसद ने किया निरीक्षण

महंगाई बेरोजगारी व स्वास्थ्य संकट से जूझ रही जनता : अशोक श्रीवास्तव