शिक्षक भवन निर्माण से संवाद की स्थिति बनेगी बेहतर: प्रो. मनोज दीक्षित

अवध विवि में शिक्षक भवन का हुआ भूमि पूजन

फैजाबाद। डाॅ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय परिसर में शिक्षक भवन का भूमि पूजन एवं शिलान्यास कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित द्वारा किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि डाॅ. वीरेन्द्र सिंह चैहान अध्यक्ष उ0 प्र0 राज्य विश्वविद्यालय शिक्षक संघ, विशिष्ट अतिथि डाॅ0 विवेक द्विवेदी महामंत्री उ0 प्र0 राज्य विश्वविद्यालय-महाविद्यालय शिक्षक संघ रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता विवि के कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित ने की।
शिलान्यास समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि डाॅ0 वीरेन्द्र सिंह चैहान ने कहा कि शिक्षक भवन का शिलान्यास शिक्षक संघ के सम्मान का प्रतीक है इसके लिए उन्होंने कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित के इस प्रयास के लिए आभार व्यक्त किया। बताया कि ज्यादातर विश्वविद्यालयों में कुलपति और शिक्षक के बीच मतभेद की स्थिति बनी रहती है, परन्तु अवध विश्वविद्यालय के कुलपति ने शिक्षकों के मध्य एक बेहतर समन्वय स्थापित कर अपनी प्रशासनिक कुशल नेतृत्व से परिवार जैसा परिवेश कायम कर विश्वविद्यालय को गुणवत्तापरक शिक्षा की ओर अग्रसर किया है। शिक्षक हित में कुलपति के प्रयासों को मील का पत्थर बताते हुए कहा कि आकस्मिक शिक्षक निधन पर विश्वविद्यालय सहायता राशि 40 हजार रूपये से बढ़ाकर 5 लाख रूपये कर दिया है। जो निश्चित रूप से शिक्षक परिवार के लिए स्वागत योग्य कदम है। राज्य के किसी भी विश्वविद्यालय के सापेक्ष डाॅ0 राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय द्वारा प्रदत्त सहायता धनराशि अभी तक की सबसे अधिक सहायता धनराशि है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित ने कहा कि जिस समाज में शिक्षकों का सम्मान नहीं होता वह समाज भी सम्मान से वंचित रह जाता है। यूरोपियन देषों में शिक्षकों के प्रति काफी सम्मान का भाव दिया जाता है। भारत में शिक्षकों के प्रति सम्मान में गिरावट दर्ज हुई है यह चिन्ता का विषय है। प्रो0 दीक्षित ने बताया कि विश्वविद्यालय एक परिवार की तरह है इससे सम्बö महाविद्यालय इसकी पारिवारिक इकाईयां है। शिक्षक भवन के निर्माण से संवाद की स्थिति बेहतर बनेगी। एक करोड़ चालीस लाख रूपये की लागत से निर्मित होने वाले इस भवन में एक हाल, दो कार्यालय दो अन्य कमरें सहित आधुनिक सुविधाओं से परिपूर्ण यह भवन एक वर्ष में इसका निर्माण पूर्ण कर लेने का भरोसा दिया। परिसर को स्वच्छ व सुन्दर बनाये जाने, शैक्षिक वातावरण को गुणवत्तापरक बनाने के लिए शिक्षकों से सहयोग की अपेक्षा की। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय कई नये व्यावसायिक पाठ्यक्रमों को प्रारम्भ करने के साथ हेल्थ प्रोफेशनल की ट्रेनिंग स्वास्थ्य निदेशालय के सहयोग से करायेगा। हर्ष व्यक्त करते हुए आचार्य दीक्षित ने बताया कि दीपोत्सव का दायित्व इस बार पुनः प्रदेश सरकार ने विश्वविद्यालय को सौंपा है। इस बार 3 लाख से अधिक दीपों को जलाये जाने की योजना पर विष्वविद्यालय तैयारियां कर रहा है। महाविद्यालय से सहयोग की अपील करते हुए कुलपति ने इसे और भव्य स्वरूप प्रदान करने की अपेक्षा की है। समारोह को शिक्षक संघ के पूर्व अध्यक्ष राजीव प्रकाश ने भी संबोधित किया।
इस अवसर पर कुलसचिव प्रो0 एस0 एन0 शुक्ल, परीक्षा नियंत्रक प्रो0 एम0 पी0 सिंह, प्रो0 के0 के0 वर्मा, प्रो0 आशुतोष सिन्हा, प्रो0 चयन कुमार मिश्र, प्रो0 अजय प्रताप सिंह, पुस्तकालयाध्यक्ष डाॅ0 आर0 के0 सिंह, डाॅ0 शैलेन्द्र वर्मा, डाॅ0 सत्येन्द्र त्रिपाठी, पूर्व प्राचार्य एच0 बी0 सिंह, डाॅ0 नागेन्द्र प्रताप सिंह, डाॅ0 विनोद कुमार, डाॅ0 सुषील कुमार, डाॅ0 विजय प्रताप सिंह, डाॅ0 समीर सिन्हा, ई0 आर0 के0 सिंह, डाॅ0 राज नारायण पाण्डेय, डाॅ0 सत्यभान रावत, डाॅ0 अभय कुमार सिंह, डाॅ0 अर्जुन पाण्डेय, आशीष मिश्र सहित बड़ी संख्या में शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  ’तांडव’ वेब सीरीज को बैन करे सरकार : श्वेता राज

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More