बजंर जमीन के अवैध कब्जे पर एसडीएम ने चलवाया बुलडोजर

कीमती भूमि पर रातोरात करा लिया गया था अवैध निर्माण

रूदौली। तहसील से सटी नेशनल हाइवे के समीप गांव की बंजर कीमती भूमि को हड़पने के लिए एक व्यक्ति ने अवैध तरीके से रातोरात निर्माण करा लिया ।किसी को कानो कान खबर तक नही हुई । तहसील के समीप होने के कारण बुधवार को जब वकीलों की नजर पड़ी तो मामले की शिकायत एसडीएम से की । प्रकरण को तत्काल गंभीरता से लेते हुए एसडीएम ने रूदौली पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर बुलडोजर से अवैध निर्माण को ढहाकर ग्राम समाज की भूमि को खाली करवाया। साथ ही तहसीलदार को निर्देश दिया है कि अतिक्रमण कर्ता के खिलाफ कार्रवाई की जाए।
बताते चले की राष्ट्रीय राजमार्ग की सर्विस रोड़ व तहसील कार्यालय से सटी गाटा संख्या 1318 जो भेलसर गांव के ग्राम समाज के खाते में बंजर भूमि के नाम से दर्ज है । भेलसर गांव निवासी परवेज़ उर्फ़ पररू ने रातोरात तहसील की ओर टट्टर व् पन्नी को आंड करके पक्की दीवार का निर्माण कर लिया।सोमवार की सुबह जब तहसील के अधिवक्ताओं की नज़र इस अवैध निर्माण पर पड़ी तो सन्न रहे गए ।बार एशो के पूर्व अध्यक्ष राम भोला तिवारी ने तत्काल दूरभाष के माध्यम एसडीएम टीपी वर्मा को अवैध निर्माण किये जाने की जानकारी दी । एसडीएम ने तुरन्त पुलिस बल व जेसीबी मशीन नगर पालिका रूदौली से बुलवाकर अवैध रूप से किया गया निर्माण खड़े होकर ढहवा दिया ।एसडीएम की इस कार्यवाही से भूमाफियाओं में हड़कम्प मचा हुआ है ।मौके पर तहसीलदार शिव प्रसाद,कोतवाल विश्वनाथ यादव,नायब तहसीलदार नरसिंह नारायण वर्मा,उपनिरीक्षक रणजीत सिंह,रूदौली बार के अध्यक्ष इंद्रसेन मिश्रा, महामंत्री रमेश शुक्ला,राजस्व निरीक्षक विश्वनाथ सिंह,सुभाष मिश्रा, शोभाराम यादव आदि मौजूद रहे।।एसडीएम टीपी वर्मा ने बताया कि ग्राम समाज की किसी भी भूमि पर किसी को भी अवैध निर्माण नहीं करने दिया जायेगा चाहे वोह कितना ही शक्तिशाली व्यक्ति ही क्यों न हो।उन्होंने कहा कि जल्द ही अभियान चला कर ग्राम समाज की अन्य भूमि पर भी अवैध क़ब्जेदारो के विरुद्ध एंटी भूमाफिया के तहत कार्यवाही कर गांव सभा की भूमि मुक्त कराई जायेगी।

इसे भी पढ़े  अनुशासन के लिए जानी जाती है एनसीसी : प्रो. रविशंकर सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More