स्कूल के प्रधानाध्यापक ने अज्ञात किसानों के विरुद्ध दर्ज कराया मुकदमा

प्राथमिक विद्यालय में छुट्टा मवेशी कैद करने का मामला

रूदौली। स्कूल में छुट्टा जानवर का याद करने के मामले में शुक्रवार को नया मोड़ आ गया।प्रधानाध्यापक की तहरीर पर मवई पुलिस ने 2 गांव के सैकड़ों अज्ञात लोगों के विरुद्ध सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाना स्कूल में तोड़फोड़ करना और धमकी देने सहित तमाम धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।जिसके बाद ग्रामीणों में भारी आक्रोश पनप गया है।
गौरतलब है कि गुरुवार की सुबह बदलेपुर व गणेशपुर के सैकड़ों किसानों ने हाका बोलकर खेत में घूम रहे छुट्टा जानवरों को एकत्र कर प्राथमिक विद्यालय बदलेपुर में कैद कर दिया था।जिसके बाद विद्यालय में शिक्षण कार्य पूरा दिन बाधित रहा।और कक्षाए खेतो में चलानी पड़ी।खंड शिक्षा अधिकारी अरुण कुमार वर्मा की सूचना पर पहुंचे एसडीएम ने ग्रामीणों से वार्ता करने के बाद देर शाम छुट्टा जानवरों को विद्यालय से बाहर निकलवाया था।जिसके बाद विद्यालय के प्रधानाध्यापक रमेश चंद्र बाल्मीकि ने मवई थाने में तहरीर दी।थाने में दी गई तहरीर में आरोप लगाया है कि विद्यालय में छुट्टा जानवरों से बच्चों को हानी पहुंच सकती थी ऐसी स्थिति में सरकारी कार्य बाधित हुआ और किसानों ने जबरन विद्यालय के गेट का ताला तोड़कर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुचाया।मौके पर सबसे पहले पहुचे बीइओ से भी ग्रामीणों ने अभद्रता की और मवेशियों को स्कूल में ले जाने पर जब मना किया गया तो उन लोगों ने गाली-गलौज भी किया।तहरीर मिलते ही मवई पुलिस ने गणेशपुर और बदलेपुर 2 गांव के सैकड़ों अज्ञात किसानों के विरुद्ध तमाम धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है।वहीं मुकदमा लिखे जाने की खबर गांव में पहुंचते ही लोगों में आक्रोश पनप गया ग्रामीणों ने इसे प्रशासन की तानाशाही बताते हुए आक्रोश जताया है।मवई थानाध्यक्ष विनोद कुमार ने बताया कि प्राथमिक विद्यालय बदलेपुर के प्रधानाध्यापक रमेश चंद्र की तहरीर पर गणेशपुर व बदलेपुर के सैकड़ों अज्ञात किसानों के विरुद्ध धारा 269,186, 427,506 आईपीसी के तहत मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश की जा रही है

इसे भी पढ़े  रालोद ने केंद्र सरकार के कृषि बिल के खिलाफ सौंपा ज्ञापन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More