रामनगरी के शिवालयों में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

भक्तो ने पावन सरयू में लगाई डुबकी, नागेश्वरनाथ सहित क्षीरेश्वरनाथ व शेषावतार मंदिर सहित अन्य शिवालयों में भी किया जलाभिषेक

पावन सलिला सरयू में डुबकी लगाते श्रद्धालु

अयोध्या-फैजाबाद। श्रावण मास के दूसरे सोमवार को रामनगरी के शिवालयों में श्रद्धा का सैलाब उमड़ पड़ा। ब्रह्ममुहूर्त से ही मंदिरों में शुरू हुआ दर्शन-पूजन का क्रम देर रात्रि तक जारी रहा। बड़ी संख्या में उमड़े भक्तों ने पावन सलिला सरयू में डुबकी लगायी , जल भरकर नागेश्वरनाथ मंदिर की तरफ उन्मुख हुये तो श्रद्धा की पराकाष्ठा परिलक्षित हुयी। नागेश्वरनाथ मंदिर में भक्तों की भीड़ से व्यवस्थायें ध्वस्त हो गयी तो वहीं भीड़ केा नियंत्रित करने में प्रशासन के पसीने छूट गये। नागेश्वरनाथ सहित क्षीरेश्वरनाथ व शेषावतार मंदिर सहित अन्य शिवालयों में भी जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक, पूजन अर्चन का क्रम जारी रहा। तो वहीं मुख्य मार्ग पर उमड़ी भीड़ के चलते यातायात व्यवस्था ध्वस्त हो गयी। हालंाकि प्रशासन द्वारा मुख्य मार्ग पर श्रीरामअस्पताल से लेकर नयाघाट बंधा तिराहा तक आवागमन प्रतिबंधित कर दिया गया है।
सावन के दूसरे सोमवार को अयोध्या में भगवान शंकर के पूजन अर्चन हेतु भक्तों का सूमह उमड़ पड़ा। शिवालयों में भगवान शंकर के पूजनोपरांत भक्तों ने हनुमानगढ़ी, कनकभवन व रामलला के दरबार में भी माथा टेका। इस दौरान प्रशासन द्वारा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये थे। एसपीसिटी अनिल सिंह के निर्देशन में सीओ अयोध्या राजकुमार साव, आरएम अयोध्या राजीव त्रिपाठी, कोतवाली प्रभारी जगदीश उपाध्याय, नयाघाट चैकी प्रभारी अमित मिश्र,सहित अर्द्धसैनिक बल के जवान नागेश्वरनाथ मंदिर पर सुरक्षार्थ मुस्तैद रहे।

रामनगरी के शिवालयों में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

रामनगरी में उमड़े कावड़ियों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन मुस्तैद है। सावन के दूसरे सोमवार को आला अधिकारियों ने हेलीकाप्टर से हवाई सर्वेक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था की हकीकत परखी। मंडलायुक्त मनोज मिश्र, एसएसपी डाॅ.मनोज कुमार, एडीएमसिटी विंध्यवासिनी राय ने फैजाबाद से टांडा होते हुए बस्ती स्थित भदेश्वरनाथ का फिर अयोध्या में नयाघाट, रामपैड़ी व शहर के मध्य हवाई चक्कर लगाकर सर्वेक्षण किया। एडीएमसिटी विंध्यवासिनी राय ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर यह सर्वेक्षण किया गया है।

इसे भी पढ़े  सरदार पटेल का अपमान नहीं होगा बर्दाश्त : जयकरन वर्मा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More