The news is by your side.

30 दिसम्बर को प्रधानमंत्री का अयोध्या भ्रमण कार्यक्रम श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा के रिर्हसल के रूप में हों : सीएम योगी

-पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से अयोध्या को बनाये राममय


अयोध्या। सूबे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा मण्डलायुक्त सभागार में अयोध्या विजन के कार्यो की समीक्षा की गयी। जिसमें मुख्यमंत्री ने कहा कि राम पथ, भक्ति पथ, जन्मभूमि पथ एवं धर्म पथ तथा अयोध्या एयरपोर्ट से बाईपास से नयाघाट जोड़ने वाले मार्ग से सम्बंधित कार्यो को गुणवत्ता के साथ पूरा किया जाय तथा अयोध्या को सजाने की भी कार्यवाहियां किया जाय। मुख्यमंत्री को अयोध्या विजन की कुल लगभग 178 परियोजनायें, 37 विभाग है इन योजनाओं का बिन्दुवार विवरण मण्डलायुक्त गौरव दयाल द्वारा किया गया, जिसमें मुख्य रूप से राम पथ, जन्मभूमि पथ, भक्ति पथ, धर्म पथ आदि प्रमुख है। मण्डलायुक्त ने कहा कि सभी कार्य गुणवत्ता के साथ पूरे किये जा रहे है तथा लगभग एक सप्ताह में लाइट एवं फसाड के कार्य पूरे हो जायेंगे। मण्डलायुक्त द्वारा 101 परियोजनाओं का बेहतर ढंग से प्रस्तुतीकरण किया गया जिसमें मुख्यमंत्री ने संतोष व्यक्त करते हुये बेहतर समन्वय के साथ पीडब्लूडी, राजकीय निर्माण निगम, विकास प्राधिकरण, नगर निगम आदि को करने का निर्देश दिया तथा कहा कि अयोध्या को विश्व स्तरीय पर्यटन सिटी बनाने के लिए कार्य किया जाय तथा प्रधानमंत्री के 30 दिसम्बर 2023 के आगमन को देखते हुये भी एयरपोर्ट की तैयारियां की जाय तथा रेलवे स्टेशन अयोध्या के भी जो कार्य हो उसको एक सप्ताह में पूरा कर लिया जाय। इस बैठक में जिलाधिकारी श्री नितीश कुमार ने प्रस्तुतीकरण में बिन्दुवार विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया तथा कहा कि जो कार्य हो रहे वह निर्धारित समय में पूरे हो जायेंगे।

Advertisements


मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में जो चार प्रमुख मार्ग (राम पथ, भक्ति पथ, जन्मभूमि पथ व धर्म पथ) जो बन रहे है उनको आकर्षक बनाया जाय तथा उनके फुटपाथ, श्रद्वालुओं के चलने के लिए हो तथा मुख्य कैरेज वे पर वाहन चले तथा जहां-जहां पर पर्याप्त चौड़ाई है उन स्थानों पर बैठने की व्यवस्था व अन्य जन सुविधायें विकसित की जाए। उन्होंने राम पथ के फुटपाथ व मुख्य कैरेज वे के बीच में आकर्षक रेलिंग लगाने के निर्देश दिये तथा तीनों पथों में ड्रेनेज के लिए बनाये गये मैन होल का लेबल सही करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आगामी 30 दिसम्बर 2023 को प्रधानमंत्री के संभावित आगमन के दृष्टिगत अयोध्या को राममय और बेहतर ढंग से सजाते हुये आकर्षक बनाया जाय और इन चारों कॉरीडोर को प्रधानमंत्री के स्वागत हेतु बेहतर ढंग से सजाया जाय। प्रधानमंत्री के भ्रमण कार्यक्रम में अयोध्या की सजावट व भव्यता का भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के रिर्हसल के रूप में हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाईवे से नयाघाट की तरफ आ रहे धर्मपथ की भी सजावट प्रधानमंत्री के आगमन के दृष्टिगत आकर्षक होनी चाहिए और एयरपोर्ट से नयाघाट के मार्ग को उसी प्रकार आकर्षक फूलों से सजाया जाय जिस प्रकार सुल्तानपुर रोड से एयरपोर्ट फोरलेन मार्ग को सजाया गया है। राष्ट्रीय राजमार्ग लखनऊ गोरखपुर में अयोध्या बाईपास की रेलिंग को आकर्षक रंगों से पेंट किया जाय तथा उसकी मीडियन में आकर्षक फूल व गमले आदि रखे जाय। उन्होंने कहा कि अयोध्या में जो भी निर्माण कार्य हो रहे है उनकी नियमित गुणवत्ता भी चेक की जाय।

इसे भी पढ़े  मण्डलायुक्त ने अधिकारियों के साथ मेला परिसर का लिया जायजा

अयोध्या में कही भी सड़कों पर धूल तथा गन्दगी आदि न हो इसका भी सुनिश्चयन किया जाय इसके लिए नगर निगम में मौजूदा में 3 हजार सफाई कर्मी है इनको बढ़ाकर 5 हजार कर दिया जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि 30 दिसम्बर 2023 को प्रधानमंत्री के संभावित भ्रमण कार्यक्रम एवं जनसभा के दृष्टिगत सभी तैयारियां एवं सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद रहे इसके लिए अभी से सभी विभाग आपस में समन्वय करते हुये समस्त तैयारियां पूर्ण करायें तथा जनसभा स्थल एवं अन्य प्रमुख स्थलों पर वाहनों की पार्किंग की पर्याप्त व्यवस्था हो और उन पार्किंगों के पास पर्याप्त जन सुविधाओं की भी व्यवस्था की जाय तथा प्रधानमंत्री की जनसभा में आसपास के जनपदों से डेढ़ से 2 लाख आम नागरिकों के आने की संभावना के दृष्टिगत सभी तैयारियां और अयोध्या को जोड़ने वाले प्रमुख मार्गो पर पर्याप्त पार्किंग व्यवस्था एवं जनसभा में आने वाले नागरिकों की आधारभूत सुविधाओं की पर्याप्त व्यवस्था की जाय। उन्होंने कहा कि अयोध्या का एक डिजिटल टूरिस्ट मैप विकसित किया जाय तथा उसमें अयोध्या में मौजूद सभी आधारभूत सुविधाओं एवं प्रमुख स्थलों की जानकारी सभी भारतीय भाषाओं एवं भगवान श्रीराम से जुड़ने वाले प्रमुख देशों की भाषाओं व संयुक्त राष्ट्र की भाषाओं में हों। मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या की सड़कों की स्ट्रीट लाइट बेहतर हों। प्रधानमंत्री के संभावित अयोध्या भ्रमण कार्यक्रम के दृष्टिगत अयोध्या के प्रमुख स्थलों, विश्वविद्यालयों, विद्यालयों, मठ-मंदिरों, साधु संतों द्वारा प्रधानमंत्री का पुष्प वर्षा आदि माध्यमों से स्वागत किया जायेगा इस दौरान पूरे अयोध्या में पब्लिक एड्रेस सिस्टम के माध्यम से अयोध्या को राममय बनाया जाय। मुख्यमंत्री ने कहा कि 22 जनवरी 2024 को भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा से सम्बंधित सभी तैयारियां सुनिश्चित की जाय तथा प्राण प्रतिष्ठा के बाद अयोध्या आने वाले श्रद्वालुओं की संख्या में वृद्वि को देखते हुये अभी से सभी व्यवस्थायें किया जाय तथा विभिन्न पार्किंग स्थलों से श्रद्वालुओं को अयोध्या भ्रमण हेतु इलेक्ट्रिक बसों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाय। रेलवे स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था, आरपीएफ, नागरिक पुलिस व रेलवे विभाग आपसी समन्वय के साथ सुदृढ़ करें।

इसे भी पढ़े  रामनवमी पर पीला वस्त्र धारण करेंगे रामलला, होगा विशेष श्रृंगार

परिवहन विभाग पर्याप्त मात्रा में बसों का संचालन सुनिश्चित करायें। अयोध्या रेलवे स्टेशन एवं एयरपोर्ट के मार्गो के गड्ढो को ठीक किया जाय। एनएचआई बाईपास मार्ग पर के डिवाइडर पर जो सजावट किया है वह बेहतर ढंग किया जाय, जिससे साइनिंग आये। नगर निगम के 15 वार्डो में बेहतर व्यवस्था करने के निर्देश दिया गया। तीर्थ प्रबन्धन के कार्यो में बेहतर पार्किंग व्यवस्था, शौचालय की व्यवस्था तथा आम श्रद्वालुओं को अच्छी से अच्छी व्यवस्था की जाय। प्रधानमंत्री के 30 दिसम्बर के आगमन को देखते हुये अयोध्या एयरपोर्ट से लेकर शहर के अन्य विभिन्न स्थानों पर गेट बनाये जाय तथा बेहतर ढंग से सजाने की व्यवस्था किया जाय। 30 दिसम्बर को एयरपोर्ट क्षेत्र में रैली प्रस्तावित है इसमें विशेष रूप से अयोध्या अम्बेडकरनगर, सुल्तानपुर, बाराबंकी के लोगों के आने की संभावना है बेहतर व्यवस्था हो तथा हाईवे मार्ग को खाली रखा जाय। प्रधानमंत्री प्रस्तावित आगमन मार्ग पर एक पूर्वाभ्यास भी कर लिया जाय। हमारी प्रशासन की मुख्य व्यवस्था आम जन सुरक्षा करनी है इसलिए मुख्य मार्गो के साथ ही सरयू नदी के आसपास जल सुरक्षा को बेहतर किया जाय। अयोध्या में ट्रस्ट द्वारा यात्रियों के ठहराने की व्यवस्था से अलग धर्मशाला एवं होटल आदि में भी यात्रियों को निर्धारित दर पर रहने की व्यवस्था किया जाय। 22 जनवरी को वही लोग अयोध्या में आ सकेंगे जिनके पास निमंत्रण पत्र है या तो सरकारी ड्युटी में तैनात हो। उन लोगों के अलावा अन्य के आने पर उचित रूप से कार्यवाही किया जाय। यह भी सुनने में आया है कि कुछ लोगों ने 22 जनवरी प्राण प्रतिष्ठा समारोह के दिन बुक करा लिया है उसको निरस्त किया जाय, जिससे शासन प्रशासन में कोई परेशानी न हो, क्योंकि उस दिन भारत के विशिष्ट आमंत्रित जन अयोध्या आयेंगे तथा अयोध्या एयरपोर्ट पर 100 प्लेन आने की संभावना है उसके डायवर्जन की भी व्यवस्था की जाय।

हमारी जिम्मेदारी सभी की सुरक्षा के साथ साथ स्वागत की भी है इसलिए सरकारी एवं पुलिस कर्मचारियों का व्यवहार आदर्श होना चाहिए तथा पुलिस बल में जोन वाइज वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अतिरिक्त फोर्स की तैनाती की जाय तथा साथ ही एसटीएफ एवं एटीएस फोर्स की भी मात्रा को बढ़ाते हुये कैम्पिंग किया जाय। अयोध्या के वैकल्पिक मार्ग गुप्तारघाट व राम की पैड़ी मार्ग की भी अच्छी व्यवस्था के साथ संचालित किया जाय। इलेक्ट्रानिक ई-रिक्शा एवं इलेक्ट्रानिक अन्य वाहनों के ड्राइवरों का सत्यापन किया जाय तथा 22 जनवरी के बाद अयोध्या में 100 बसों के संचालन की व्यवस्था नगर विकास विभाग बनायें तथा परिवहन विभाग अयोध्या के लिए वोल्वो बस चलाने की व्यवस्था किया जाय तथा लखनऊ से अयोध्या हेलीकाप्टर की व्यवस्था दी जाय तथा विशिष्टजन प्रधानमंत्री के आगमन पर आमजन के पेयजल एवं स्वास्थ्य व्यवस्था पर भी ध्यान दिया जाय। इस बैठक में मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र द्वारा अयोध्या के विकास का संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया गया तथा बताया गया कि मेरे द्वारा भी विकास कार्यो की समीक्षा की गयी है और बताया कि तैयारियां बेहतर चल रही है तथा समय से पूर्ण कर ली जायेंगी। बैठक में पुलिस महानिदेशक विजय कुमार द्वारा भी सुरक्षा के बिन्दुओं की जानकारी दी गयी तथा विशेष पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार, अपर पुलिस महानिदेशक पीयूष मोर्डिया तथा पुलिस महानिरीक्षक प्रवीण कुमार द्वारा सुरक्षा व्यवस्था का विवरण तथा डैस बोर्ड के माध्यम से प्रधानमंत्री जी के 30 दिसम्बर के भ्रमण को देखते हुये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर द्वारा विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया गया।

इसे भी पढ़े  भाजपा के 31670 पन्ना प्रमुख करेंगे हर घर हर मतदाता से सम्पर्क

बैठक में कृषि मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही, सांसद लल्लू सिंह, मेयर गिरीश पति त्रिपाठी, विधायकगण रामचन्द्र यादव, वेदप्रकाश गुप्ता, डा. अमित सिंह चौहान, एमएलसी हरिओम पांडेय, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रोली सिंह सहित अन्य गणमान्य प्रतिनिधि उपस्थित थे। इस बैठक में मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं गृह संजय प्रसाद के अलावा ऊर्जा, पीडब्लूडी, सिंचाई, पर्यटन, परिवहन, आवास के अलावा भारत सरकार के सुरक्षा के डीजी तथा शासन, मण्डल एवं जनपदों के वरिष्ठ अधिकारी नगर आयुक्त विशाल सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अनिता यादव सहित अधिकारी, अभियन्तागण तथा परियोजना के प्रमुख उपस्थित थे। इस बैठक के अन्त में मुख्यमंत्री ने स्थानीय एवं शासन के अधिकारियों से अपेक्षा किया कि समय कम है एवं समय से पूरा किया जाय। मुख्यमंत्री ने हनुमानगढ़ी एवं श्रीरामलला का दर्शन किया तथा मंदिर के निर्माण कार्यो को देखा। मुख्यमंत्री जी श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ न्यास के पदाधिकारियों से भी चर्चा की। मुख्यमंत्री  अगले चरण मे अयोध्या रेलवे स्टेशन का भी निरीक्षण किया तथा वहां पर जो कमी थी जैसे प्लेटफार्म आदि को ठीक करने एवं साफ सफाई करने के निर्देश दिये तथा मुख्यमंत्री अगले चरण में मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का भी निरीक्षण किया तथा वहां के कार्यो तथा खराब मार्ग के भी ठीक करने के निर्देश दिये। अगले चरण में मुख्यमंत्री द्वारा सर्किट हाउस अयोध्या में अयोध्या के पूज्य साधु संतों से मुलाकात किया तथा अयोध्या के विकास एवं प्रधानमंत्री जी के आगमन को देखते हुये आपेक्षित सहयोग मांगा।

Advertisements

Comments are closed.