क्रांतिकारियों के गद्दारों की निकाली शव यात्रा

मुखबिरी और गद्दारी से कमाई सम्पति को उनके वंशजो से जप्त करके शहीद वंशजो मे बाटी जाए: सूर्यकांत

क्रांतिकारियो के खिलाफ गद्दारी व मुखबिरी करने वालो की शवयात्रा निकालने के बाद जलाते शहीद शोध संस्थान के लोग
Advertisement

फैजाबाद। शहीदो के अरमानो को मंजिल तक पहुचाएगे के गगन भेदी नारो के साथ अशफाक उल्ला खान मेमोरियल शहीद शोध संस्थान ने पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार स्वतंत्रता दिवस पर क्रांतिकारियो के खिलाफ गद्दारी व मुखबिरी करने वालो की शवयात्रा निकाली। शवयात्रा गुलाबबाडी उद्यान गेट से निकलकर रीडगंज जमुनियाबाग होते हुए चैक पहुची ।यात्रा मे शामिल लोग मुखबिर है, गद्दार है, देश का गुनहगार है का नारा बुलंद कर रहे थे ।संस्थान के सदस्यो ने आजादी जिन्दाबाद और क्रांतिवीरो की अमरता का भी नारे लगाए ।चैक मे प्रदर्शन सभा मे तब्दील कर सभा की गई ।सभा को संबोधित करते हुए संस्थान के प्रबंध निदेशक सूर्य कान्त पाण्डेय ने मांग किया कि मुखबिरी और गद्दारी से कमाई सम्पति को उनके वंशजो से जप्त करके शहीद वंशजो मे बाटी जाए।
संस्थान के आयोजन मे अध्यक्ष सलाम जाफरी उपाध्यक्ष जसवीर सिंह सेठी कोषाध्यक्ष अब्दुल रहमान भोलू आडीटर रमाशंकर गुप्ता पिल्लू, विकास सोनकर, गोपाल चैरसिया, देवेश ध्यानी, विनीत कनौजिया, कप्तान सिंह एडवोकेट, समाजसेवी शोभा गुप्ता, संगीतकार रोहित हितेश्वर, वरिष्ठ पत्रकार के पी सिंह शायर जमशेद अहमद सहित बड़ी संख्या मे छात्र युवा मौजूद थे ।संस्थान के सेक्रेटरी विश्व प्रताप सिंह अंशू की अगुआई मे शवयात्रा मे मौजूद राजू खान, विजय साहू, मो इस्लाम, संतोष मौर्या, तिलक राज आदि ने अर्थी का मौके पर ही दहन किया ।