लॉकडाउन के बींच सीएम योगी ने रामलला को नये अस्थाई मन्दिर में किया स्थापित

साढ़े नौ किलो चांदी के सिंहासन पर विराजमान हुए रामलला

Advertisement

अयोध्या। कोरोना वायरस (कोविड-19) को लेकर पूरे देश व प्रदेश में लागू लॉकडाउन के बींच यूपी के सीमए योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को संध्याकाल अयोध्या पहुंचकर बुधवार की प्रातः 4 बजे श्रीरामजन्मभूमि परिसर में विराजमान रामलला को स्थानांत्रित कर नये अस्थाई भवन में स्थापित कर दिया और भव्य मन्दिर निर्माण के लिए 11 लाख का चेक भी ट्रस्ट को भेंट किया।
नये भवन में रामलला को नया सिंहासन साढ़े नौ किलो चांदी से बनवाकर अयोध्या राज परिवार के मुखिया विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र ने रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट को समर्पित किया है। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि मंगलवार को भगवान के नए आसन का भी पूजन किया गया। उन्होंने बताया कि ब्रह्मबेला में रामलला को नए भवन में प्रतिष्ठित करने से पहले दूसरे दिन भी विधिपूर्वक पूजा-अर्चना का क्रम चलता रहा। चंपत राय के मुताबिक सोमवार को दोनों पालियों में मिलाकर करीब 10 घंटे तक अनुष्ठान चलता रहा। उन्होंने बताया की पुनः ब्रह्म मुहूर्त में ही भगवान का जागरण कराकर उनका श्रृंगार कर उन्हें नए भवन में ले जाकर नए आसन पर प्रतिष्ठित कर मंगला आरती की गई।इसके उपरांत आम दर्शनार्थियों के लिए रामलला के लिए पट खोल दिए गए।
रामजन्मभूमि के गर्भगृह में रामलला के साथ उनके तीनों भाई भरत-शत्रुहन व शेषावतार लक्ष्मण जी के अलावा हनुमंत लला भी विराजमान हैं। इसके अलावा एक पाषाण खंड के भारी-भरकम हनुमान जी भी विराजित हैं। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के मुताबिक विराजमान रामलला के यजमानों को एक दिन पूर्व ही उपवास रखने का निर्देश वैदिक आचार्यों ने दिया है। इसके कारण स्थान परिवर्तन अनुष्ठान के यजमान बने दोनों ट्रस्टी अयोध्या नरेश विमलेन्द्र मोहन प्रताप मिश्र व आरएसएस के प्रांत कार्यवाह डॉ. अनिल मिश्र मंगलवार से उपवास पर हैं। यह दोनों यजमान विराजमान रामलला व उनके अनुजों के साथ हनुमंत लला को अलग-अलग थाल में सजाकर अपने सिर पर लेकर उनकी सवारी निकालीं।
रामजन्मभूमि परिसर में नवनिर्मित अस्थाई मंदिर में रामलला को स्थानान्तरित करने के लिए बुधवार को प्रतिष्ठा उत्सव में सीएम योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए। वह मन्दिर परिसर में करीब दो घंटे समय बिताने के बाद पुनः लखनऊ रवाना हो गये।
वहीं बताया जा रहा है कि रामजन्मभूमि में विराजमान रामलला के नये भवन में स्थानान्तरण के बाद मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरु करने से पहले कार्यदाई संस्था लार्सन एण्ड टुब्रो (एल एण्ड टी) के नेशनल हेड कुलदीप गोयल का प्रथम दौरा प्रस्तावित था। ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि कोरोना वायरस के चलते उत्तर प्रदेश समेत देश के विभिन्न शहरों में लॉक डाउन की घोषणा के कारण यह दौरा स्थगित कर दिया गया है।