स्वास्थ्य विभाग पर चला प्रशासन का चाबुक

50 अधिकारियों की टीमों ने किया 13 सामुदायिक, 27 प्राथमिक व 40 स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण

26 डाक्टर, 60 मेडिकल स्टाफ व 11 चतुथ्र श्रेणी कर्मचारी मिले अनुपस्थित

फैजाबाद। बेसिक शिक्षा विभाग के साथ-साथ स्वास्थ्य विभाग पर जिला प्रशासन पर चला चाबूक। जिलाधिकारी डा0 अनिल कंे निर्देश पर 40 अधिकारियों की टीमों ने 13 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रो व 27 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो कुल 40 स्वास्थ्य केन्द्रो का हुआ अचैक निरीक्षण। निरीक्षण मे 26 डाक्टर 60 मेडिकल स्टाफ तथा 11 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अनुपस्थित मिले, जिन पर सख्त कार्यवाही के लिये रिर्पोट सीएमओ को भेजते हुये सभी अनुपस्थित डाक्टर एवं स्टाफ के एक दिन के वेतन काटने के साथ विभागीय अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश दिये गये है।
जिलाधिकारी ने कहा कि इस बार तो एक दिन का वेतन काटने के साथ विभागीय कार्यवाही करने के ही निर्देश दिये गये है अगली बार से निलम्बन की संस्तुति भी की जायेगी। उन्होनंे कहा कि सभी चाहे वे अध्यापक हो, डाक्टर हों, अधिकारी हो या कर्मचारी हों, अपने लेट लतीफ कार्यालय, स्कूल व चिकित्सालय आने की आदत का परित्याग कर दें। अन्यथा दुष्परिणाम के लिये तैयार रहें। उन्होनंेे कहा कि अब नही चलेगा, अच्छा होगा अपनी आदत सुधार लें। क्योंकि सभी जनसेवा के श्रेणी में आते है और जनता की कार्य सम्पादन के लिये समय से कार्यस्थल अनिवार्य रूप से उपस्थित होना होगा। निरीक्षण यह पाया गया कि कुछ डाक्टर व मेडिकल स्टाफ उपस्थित पंजिका में एडवांन में सिग्नेचर बनाये गये थे जबकि वे स्वास्थ्य केन्द्र पर आये ही नही थे, निरीक्षण में मुख्य विकास अधिकारी अक्षय. त्रिपाठी, परियोजना निदेशक मिश्र, जिला विकास अधिकारी हवलदार सिंह सहित सभी उप जिलाधिकारी, उप श्रमायुक्त के साथ जिला स्तरीय अधिकारी निरीक्षण में भेजे गये थे। निरीक्षण मंे कहीं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बन्द मिलें, कहीं केवल चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी मिलें तो कहीं फार्मासिस्ट ही। आलम यह है कि स्वास्थ्य केन्द्रो के परिक्षेत्र मंे झांड़िया उगी हुई हैं। किसी तरफ से नही लगता यह स्वास्थ्य केन्द्र है। भर्ती की सुविधा होने पर भी मरीज भर्ती नही किये जा रहे है। बेड बिना बेडसीट के मिले, पर्याप्त साफ-सफाई नही मिली।
जिलाधिकारी ने कहा कि इस समय विभिन्न विभागों की आकस्मिक चेंकिग हो रही है। बेसिक शिक्षा के बाद आज सीएचसी एवं पीएचसी का आकस्मिक निरीक्षण किया गया है। जो विभाग सीधे पब्लिक से जुड़े हुये है अगर उससे जुड़े अधिकारी एवं कर्मचारी अनुपस्थित पाये जाते है तो उन पर कड़ी कार्यवाही होगी। उन्होनंे कहा कि सरकार के निर्देशो का कड़ाई से अक्षरसः से पालन करना सुनिश्चित करें। सभी अपने कर्तव्यों के प्रति जागरूक हों और कर्तव्यों का पालन करें।

इसे भी पढ़े  राम नगरी में बिखरी गुरु गोविंद सिंह के प्रकाशोत्सव की छटा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More