The news is by your side.

शहीद भगत सिंह द्वारा चलाया गया युद्ध जारी: अशोक मिश्रा

शहीदों के अरमानों को मंजिल तक पहुंचाएंगे अभियान का हुआ समापन

अयोध्या। अशफाक उल्ला खां मेमोरियल शहीद शोध संस्थान द्वारा चलाए गए 24 दिवसीय शहीदों के अरमानों को मंजिल तक पहुंचाएंगे अभियान का समापन समारोह शहीदे आजम भगत सिंह का शहादत दिवस समारोह पूर्वक मनाकर किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि भाकपा के पूर्व राज्य सचिव अशोक मिश्रा ने कहा कि भगत सिंह द्वारा चलाया गया युद्ध जारी है। शोषण विहीन समाज का सपना अधूरा है। उन्होंने कहा कि शहीदों अरमानों को आजाद भारत की सरकारों ने पूरा करने की जगह धूल में मिला दिया। समाज में अमीरी गरीबी की खाईं चैड़ी हो गई, पूंजीपतियों की पूंजी बढ़ गई। सरकारों ने देश में समाजवादी व्यवस्था की जगह पूंजीवाद को बढ़ावा दिया। श्री मिश्र ने नौजवानों, किसानों, महिलाओं, विद्यार्थी से एकजुट होकर रुढ़िवादी ताकतों सिकस्त देने का अनुरोध किया।
भाकपा के राज्य कौसिंल के सदस्य अशोक तिवारी की अध्यक्षता तथा ईटीवी पत्रकार शोभा गुप्ता के संचालन में सम्पन्न समारोह में विषय प्रस्तुत करते हुए संस्थान के प्रबंध निदेशक सूर्य कांत पाण्डेय ने कहा कि शहीदों ने मुफ्त दवाई और पढ़ाई का सपना देखा था, जबकि सरकारों ने इन दोनों व्यवस्थाओं को पूंजीपतियों के हाथों में सौप कर गरीबों को दवाई, पढ़ाई से बंचित कर दिया। उन्होंने कहा कि समाज को जाति, धर्म, भाषा, क्षेत्र जैसे मामलों में उलझा दिया गया।
शहादत दिवस पर हुए समारोह का प्रारंभ शहीद भगत सिंह की की नगर निगम स्थित प्रतिमा पर माल्यार्पण से हुआ। संस्थान के पदाधिकारियों, सदस्यों ने प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद मुख्य अतिथि का स्वागत किया। कौशल पब्लिकेशन के बीच पी पाण्डेय ने मुख्य अतिथि को क्रांतिकारी पुस्तकों को भेटकर उनका सम्मान किया। नगर निगम स्थित भगत सिंह पार्क में सम्पन्न समारोह को संस्थान के भाकपा सचिव रामतीर्थ पाठक अध्यक्ष सलाम जाफरी, उपाध्याय जसवीर सिंह सेठी, हमीदा अजीज, मंत्री विश्व प्रताप सिंह अंशू कोषाध्यक्ष अब्दुल रहमान भोलू, देवेश ध्यानी, विकास सोनकर, विनीत कनौजिया, भाकपा महानगर सचिव कप्तान सिंह, भाकपा माले के राम भरोस, अतीक अहमद, अखिलेश चतुर्वेदी, राम सिंह, उमा कत, कांग्रेस अध्यक्ष राम दास वर्मा, दिनेश सिंह, एआईएस एफ के उत्कर्ष पाण्डेय सहित बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.