यश पेपर मिल के प्रदूषित पानी को लेकर सपा प्रतिनिधि मण्डल ने सौंपा ज्ञापन

कहा प्रदूषित पानी जनमानस के लिए गम्भीर समस्या

Advertisement

फैजाबाद। यश पेपर मिल से निकलने वाले प्रदूषित पानी को लेकर किसानों की समस्या को लेकर समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि मण्डल ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। प्रतिनिधि मण्डल के सदस्यों ने इस बात पर जोर दिया कि यश पेपर मिल से निकलने वाला प्रदूषित पानी जन-मानस के लिये गम्भीर समस्या बन गया है।
पूर्व मंत्री तेजनारायण पाण्डेय पवन ने जिलाधिकारी को ज्ञापन के माध्यम से बताया कि यश पेपर मिल से निकलने वाले पानी न सिर्फ किसानों के लिये घातक बन गया है, बल्कि मवेशियों के लिये जानलेवा साबित हो रहा है। श्री पाण्डेय ने बताया कि 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से इस समस्या को संज्ञान में लेते हुए पखवारे भर में निस्तारण का निर्देश दिया था। श्री पाण्डेय ने बताया कि इस समस्या से ग्राम सभा राजेपुर, सरायरासी, रामपुर हलवारा, मूड़ाडीहा, तिहुरा मांझा के किसान पिछले कई वर्षों से जहरीले पानी से उनकी फसलें बर्बाद हो रही हैं। जानवरों के शरीर में सड़न भी हो जाती है तथा इस पानी के पीने से उनकी मृत्यु भी हो जाती है। इस जहरीले पानी के कारण हजारों नौजवान किसान का जीवन नरकीय बना हुआ है। श्री पाण्डेय ने बताया कि किसानों की समस्या को लेकर अब समाजवादी पार्टी आर-पार की लड़ाई लड़ने को तैयार है।
पूर्व विधायक अभय सिंह ने बताया कि किसानों के लिये नासूर बन चुकी समस्या को लेकर न तो यश पेपर मिल गम्भीर है और न ही शासन-प्रशासन गम्भीर है। श्री सिंह ने कहा कि इससे आधा दर्जन ग्राम सभा की सैकड़ों परिवारों व हजारों मवेशियों पर प्रदूषित पानी का संकट बना रहता है। जिससे उनको कई जानलेवा बीमारियों का सामना करना पड़ता है। यश पेपर मिल से निकलने वाला राख से तमाम लोगों के आंखों की रोशनी पर भी बुरा असर पड़ता है। श्री सिंह ने कहा कि नासूर बन चुकी समस्या का जब तक ठोस हल नहीं निकलता, तब तक समाजवादी पार्टी संघर्ष जारी रखेगी।
जिलाध्यक्ष गंगासिंह यादव ने इस मौके पर कहा कि अगर जिला प्रशासन किसानों की समस्या का त्वरित निस्तारण नहीं करेगी तो कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर प्रशासन व यश पेपर मिल के खिलाफ संघर्ष करेगी। इस मौके पर मुख्य रूप से सपा प्रवक्ता चैधरी बलराम यादव, राम अचल यादव प्रमुख, संजय सिंह राजू, सुरेन्द्र यादव, म0 अनिल मिश्रा, सै0 हामिद जाफर मीसम, रमाकान्त यादव, रक्षाराम यादव, शमशेर यादव, रणधीर सिंह लल्ला, मंजीत यादव, लक्ष्मण यादव, प्रमोद सिंह, फैजान, मुन्ना सिंह, सुरेन्द्र यादव, धर्मराज कोरी, रामू कैटर्स, सुनील कुमार सिंह मुन्नू आदि मौजूद थे।