बदतर हो चुकी कानून व्यवस्था, सीएम योगी दें इस्तीफा: तेजनारायण

0

कहा अपराधी तो अपराधी अब तो खाकी वर्दी भी आम आदमी के लिए जी का जंजाल बन गई है

फैजाबाद। पूर्व मंत्री व सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता तेज नारायण पांडेय पवन ने प्रदेश की कानून व्यवस्था को बद से बदतर बताते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से तत्काल इस्तीफा दिए जाने की मांग की है। श्री पांडेय ने आज पार्टी कार्यालय पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था इस कदर खराब हो चली है कि आम आदमी का सड़क पर चलना दूभर हो चला है। उन्होंने कहा कि अपराधी तो अपराधी अब तो खाकी वर्दी भी आम आदमी के लिए जी का जंजाल बन गई है, बीती रात जिस तरह से राजधानी के गोमती नगर इलाके में विवेक तिवारी नाम के युवक की पुलिस वालों ने गोली मारकर हत्या कर दी यह प्रदेश की बद से बदतर हो चुकी कानून व्यवस्था का सबसे सटीक उदाहरण है। उन्होंने बताया कि जिस तरह इस घटना को अंजाम दिया गया उससे तो अब खाकी वर्दी देखकर ही आम आदमी डरेगा ऐसे में अपनी समस्याओं को लेकर वह कहां जाए। उन्होंने बताया कि प्रदेश की सरकार सभी मोर्चों पर पूरी तरह से विफल हो चुकी है, किसान नौजवान महिलाएं और बेटियां तक इस प्रदेश में अब सुरक्षित नहीं रह गए हैं, यही हाल रहा तो लोग अपने घरों से बाहर निकलना बंद कर देंगे। लखनऊ के गोमतीनगर में एक निजी कंपनी में कार्यरत विवेक की हत्या में शामिल पुलिसकर्मियों पर सख्त कार्रवाई के अलावा श्री पांडेय ने उनके परिवार को 1 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद दिए जाने की भी मांग उठाई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था को देखते हुए समाजवादी पार्टी सड़कों पर उतर कर प्रदेश सरकार के खिलाफ संघर्ष करेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में अगर जरा सी भी नैतिकता बाकी है तो प्रदेश के खराब हालात को देखते हुए उन्हें तत्काल इस्तीफा दे देना चाहिए। इस मौके पर सपा प्रवक्ता चैधरी बलराम यादव, पूर्व प्रदेश सचिव मो0 हलीम पप्पू, महानगर अध्यक्ष मो0 कमर राईनी, महासचिव श्यामकृष्ण श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष हामिद जाफर मीसम, अनिल मिश्रा, अजय विश्वकर्मा, शाहबाज खान लकी, तालिब खान, प्रदीप श्रीवास्तव आदि लोग मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  बिना अनुमति भण्डारा कराने पर पुलिस ने दर्ज किया मुकदमा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: