जुल्म अत्याचार के खिलाफ आवाज उठायें नारियां: लीलावती

फूलन देवी की स्मृति में हुई गोष्ठी

फैजाबाद। तारा निषाद के संयोजन में फूलन देवी के पावन स्मृति में उनके व्यक्तित्व पर गोष्ठी का आयोजन मंझवा गांव गद्दोपुर में किया गया। जिसमें बतौर मुख्य अतिथि के रूप में सदस्य विधान परिषद की सदस्य लीलावती कुशवाहा ने शिरकत किया। गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए एमएलसी लीलावती कुशवाहा ने कहा कि फूलन देवी के आत्मा को तभी शांति मिलेगी जब हमारे देश की बहादुर बेटियाँ पढ़लिख शिक्षित होकर अपने अधिकारों की लड़ाई खुद लड़ने के लिए खड़ी हो जाये, और जुल्म अत्याचार के खिलाफ जमकर मुकाबला करे। एमएलसी श्रीमती कुशवाहा ने पार्टी के संरक्षक हमारे नेता मुलायम सिंह यादव को तहेदिल से धन्यवाद देती हूँ कि उन्होंने फूलनदेवी को धर्म पुत्री मानतें हुए मान व सम्मान दिया था, जिसका आज भी हमारे नेता समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी पालन करते चले आ रहे है। गरीबों, मजलूमों शोषित पीड़ित समाज की रहनुमाई सिर्फ और सिर्फ समाजवादी पार्टी करती चली आ रही है। श्रीमती कुशवाहा ने कहा कि फूलनदेवी को लोकसभा सदस्य बनाकर नेता जी देश के सबसे बड़े सदन में भेजने का काम किया था। गोष्ठी में मौजूद सौकड़ो महिलाओं बेटियों को सम्बोधित करती हुई सदस्य विधान परिषद की सदस्य लीलावती कुशवाहा ने कहा कि सभी लोग फूलन देवी के संघर्षों को याद रखना जुल्म और अत्याचार महिलाओं पर हो रहे उत्पीड़न को रोकने के लिए आज हर एक घर से फूलनदेवी जैसी बहादुर बेटीयों का होना जरूरी है। एमएलसी श्रीमती कुशवाहा ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि जो लोग बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा लगा रहे थे आज वही लोग बेटियों पर हो रहे अत्याचार पर खामोश है। देश व प्रदेश में बहन बेटियाँ सुरक्षित नही है। भाजपा सरकार में कानून नाम की कोई चीज नही है। गोष्ठी का समापन पर फूलनदेवी के चित्र पर सभी लोगों ने श्रद्धा सुमन अर्पित कर नमन किया। सपा नेता इंद्रपाल यादव ने कहा कि बहन बेटियों को फूलन देवी से प्रेरणा लेनी चाहिए और बहन बेतिया ही इस देश कि धरोहर है इस मौके पर तारा निषाद ,मंजू निषाद, पुष्पा निषाद, कलावती निषाद, राजरानी निषाद, आस्था कुशवाहा, इन्द्रपाल यादव, भीमल कुशवाहा, गीता सिंह, ज्योति श्रीवास्तव, अल्का कुशवाहा, रामजी यादव,सुमन, कुसुम, श्रीमती, झबला,विमला,लीलावती सहित बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  कोहरे व पछुआ हवाओं से बढ़ी ठण्ड, अलाव बना सहारा

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More