The news is by your side.

पत्रकार की हत्या पर महासंगठन खफा, एसडीएम के माध्यम से राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

-मृतक पत्रकार के परिजनों को 50 लाख व घायल पत्रकार को दस लाख रुपए मुआवजा देने की मांग


अयोध्या। भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंगठन अयोध्या द्वारा पत्रकारों की एक आवश्यक बैठक मिल्कीपुर तहसील परिसर में आयोजित की गई। जिसमें लगातार हो रहे पत्रकारों उत्पीड़न और हत्या किए जाने पर गंभीर नाराजगी जताई गई। पत्रकारों के प्रतिनिधि मंडल द्वारा राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन मिल्कीपुर उप जिलाधिकारी के स्थान पर नायब तहसीलदार अमानीगंज के माध्यम से दिया गया। मंगलवार को तहसील परिसर के अधिवक्ता सभागार में आयोजित बैठक में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर लगातार हो रहे हमले पर गंभीर नाराजगी जताई गई। महासंगठन के जिलाध्यक्ष बलराम तिवारी ने कहा कि पत्रकारिता के दायित्व निर्वहन के दौरान जौनपुर जिले के पत्रकार आशुतोष श्रीवास्तव पर अराजकतत्वों द्वारा सरेआम गोली मारी गई। उन्होंने बताया कि सूचना मिली कि खबर से नाराज अराजकतत्वों द्वारा काफी दिनों से पत्रकार श्री श्रीवास्तव की हत्या की साजिश रची जा रही थी।

Advertisements

जानकारी होने पर पत्रकार ने स्थानीय पुलिस को सुरक्षा के लिए प्रार्थना पत्र भी दिया था लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी रही। अब पत्रकार की हत्या कर दी गई। बताया कि प्रतापगढ़ जनपद में पत्रकार बसंत सिंह को गोली मारकर घायल किया गया है। वह अस्पताल में जिंदगी मौत के बीच संघर्ष कर रहे हैं। यही नहीं रायबरेली में गृहमंत्री अमित शाह की जनसभा के दौरान कवरेज कर रहे पत्रकार राघव त्रिवेदी को बंधक बनाकर मारा-पीटा गया। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं बता रही हैं कि कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। देश में प्रजातंत्र खतरे के दौर से गुजर रहा है।

इसे भी पढ़े  हाईवे पर दो बाइकों में आमने-सामने हुई भीषण टक्कर

कार्यक्रम का संचालन कर रहे वरिष्ठ पदाधिकारी नरसिंह ने कहा कि लगातार हो रहे पत्रकारों पर हमले का मायने है कि कानून व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है। अपराधियों का मनोबल ऊंचा उठ चुका है। वह सरकार की व्यवस्था को धता बता कर अपनी हनक कायम कर चुके हैं। बैठक को मिल्कीपुर तहसील अध्यक्ष वेदप्रकाश तिवारी, दिनेश जायसवाल, विजय पाठक, सुनील तिवारी, शिवकुमार पाण्डेय आदि पत्रकारों ने नाराजगी जताते हुए घटना में शामिल अपराधियों को जेल भेजने तथा लापरवाह प्रशासनिक अधिकारियों के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई किए जाने की मांग की है।

शोक सभा में मृतक पत्रकार के प्रति दो मिनट का मौन रख कर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए घटना के बाबत निंदा प्रस्ताव पारित किया गया। ज्ञापन देने वाले पत्रकारों में मुख्य रूप से महासंगठन के जिलाध्यक्ष बलराम तिवारी, मिल्कीपुर तहसील अध्यक्ष वेद प्रकाश तिवारी, वरिष्ठ पदाधिकारी नरसिंह, शिव कुमार पांडे, दिनेश जायसवाल, विजय पाठक, उमाशंकर तिवारी, सुनील तिवारी, शैलेंद्र कुमार शर्मा, मोहम्मद हसन, विजय बहादुर पांडे, सत्रोहन यादव, वेद प्रकाश तिवारी द्वितीय, राहुल कुमार पांडे, मित्रसेन यादव एवं मंसाराम सहित दर्जनों पत्रकार शामिल रहे।

वहीं दूसरी तरफ भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंगठन बीकापुर तहसील ईकाई ने बैठक कर महामहिम राष्ट्रपति को पांच सूत्रीय मांग पत्र भेज कर पत्रकारों पर हो रहे हमले की निंदा की। मंगलवार को भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंगठन तहसील इकाई बीकापुर तहसील में आयोजित बैठक में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के दायित्व का निर्वहन कर रहे पत्रकारों पर हो रहे हमले पर क्षोभ व्यक्त करते हुए निंदा की गई। बैठक के दौरान पत्रकारिता कर्तव्य निर्वहन के दौरान जौनपुर जनपद में पत्रकार आशुतोष श्रीवास्तव की अराजकतत्वों द्वारा गोली मारकर की गई हत्या तथा प्रतापगढ़ जनपद में पत्रकार बसंत सिंह को गोली मारकर घायल के जाने की घटना को लेकर आक्रोश जताया गया तथा निंदा की गई। घटना में मृतक पत्रकार के प्रति शोक संवेदना व्यक्त करते हुए निंदा प्रस्ताव पारित किया गया।

इसे भी पढ़े  राजेंद्र प्रसाद पाण्डेय का चरित्र, जुझारूपन पत्रकारों के लिए पथ प्रदर्शक : लल्लू सिंह

तथा घटना की निष्पक्ष जांच करके दोषियों के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई किए जाने की मांग की गई। निंदा प्रस्ताव के बाद तहसील अध्यक्ष केके शुक्ला के नेतृत्व में उप जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को पांच सूत्रीय मांग पत्र भेजा गया। मांग पत्र में अराजक तत्वों द्वारा किए गए हमले में मृतक पत्रकार आशुतोष श्रीवास्तव के आश्रित परिजनों को 50 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दिए जाने, हमले में गंभीर रूप से घायल बसंत सिंह की सरकार द्वारा दवा उपचार की व्यवस्था और और परिजनों को 10 लाख रुपए आर्थिक सहायता देने, पत्रकारों पर हमले के मामले में उच्च स्तरीय जांच एजेंसी से निष्पक्ष जांच करवा कर दोषियों के विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई किए जाने, पत्रकार सुरक्षा कानून बनाए जाने तथा पत्रकारों के लिए प्राथमिकता के आधार पर शस्त्र लाइसेंस प्रदान किए जाने एवं समाचार संकलन के दौरान पत्रकारों के सुरक्षा की व्यवस्था सुनिश्चित कराए जाने की मांग शामिल है।

उप जिलाधिकारी के अनुपस्थिति में नायब तहसीलदार दीपंकर द्वारा मांग पत्र लेकर राष्ट्रपति को भेजे जाने का आश्वासन दिया गया। इस मौके पर तहसील अध्यक्ष केके शुक्ला, जिला उपाध्यक्ष राजेंद्र पाठक, आदर्श प्रेस क्लब बीकापुर के अध्यक्ष अरुण कुमार मिश्रा, पुष्पेंद्र मिश्रा, योगेंद्र नाथ उपाध्याय आदि पत्रकार शामिल रहे।

Advertisements

Comments are closed.