The news is by your side.

पिताश्री सम्मान से सम्मानित हुए हरिकृष्ण अरोड़ा व डा. जावेद अख्तर

-फादर्स डे पर अयोध्या धाम चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा आयोजित किया गया सम्मान समारोह

अयोध्या। फादर्स डे के अवसर पर अयोध्या धाम चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा शहर के मोतीबाग स्थित आभा होटल के सभागार में एक सम्मान समारोह कार्यक्रम आयोजित किया गया।कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आचार्य मिथलेश नन्दिनी शरण हनुमत सदन अयोध्या द्वारा माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित करके शुभारम्भ किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि आचार्य मिथलेश नन्दिनी शरण का ट्रस्ट के अध्यक्ष संजय महेन्द्रा, ट्रस्ट की उपाध्यक्ष भारती सिंह , उपाध्यक्ष मंजूर खान, कोषाध्यक्ष एकता टण्डन ने पटका पहनाकर, माल्यार्पण करके व स्मृति चिन्ह देकर मुख्य अतिथि का स्वागत व अभिनन्दन किया।

Advertisements

मुख्य अतिथि आचार्य मिथलेश नन्दिनी शरण ने पत्रकारिता के क्षेत्र में हरिकृष्ण अरोड़ा का पटका व साफा बाँधकर तथा स्मृति चिन्ह देकर पिताश्री सम्मान से सम्मानित किया। बीमार होने के कारण पिताश्री सम्मान लेने वरिष्ठ चिकित्सक डा. जावेद अख्तर नहीं उपस्थित हो पाये उनका सम्मान ट्रस्ट उनके घर ले जाकर देगा। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों ने ताली बजाकर स्वागत व अभिनन्दन किया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए आचार्य मिथलेश नन्दिनी शरण जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि पिता का स्थान प्रभु से बड़ा है पिता का त्याग, तपस्या, प्यार अनमोल है। दुनिया में पिता ही एक ऐसा है जो चाहता है कि मेरा पुत्र मुझसे ज्यादा कामयाब हो। इसलिये पिता का स्थान जीवन में अहम होता है जिसने अपने पिता की सेवा व सम्मान नहीं किया वह जीवन में सफलता के रास्ते पर कभी बढ़ नहीं सकता। पिता की सेवा में ही भगवान बसता है।

इसे भी पढ़े  रेलवे ट्रैक पर मिला महिला का क्षत विक्षत शव

अयोध्या धाम चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष संजय महेन्द्रा ने कहा कि पिता से अच्छा मार्गदर्शक और कोई नहीं हो सकता। इसको जानते हुए भी लोग अपने पिता का सम्मान नहीं करते यह एक सोचनीय विषय है। पुत्र को अपने पिता की सेवा निस्वार्थ धर्म समझकर करना चाहिए। कार्यक्रम में कवियत्री अर्चना द्विवेदी व सुनीता पाठक ने अपने रचनाओं से लोगों का मन मुग्ध कर दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए ट्रस्ट के संरक्षक प्रीतम सिंह ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों की आवश्यकता वर्तमान में अत्यन्त जरूरी है।

बड़ी संख्या में पिता अपने पुत्रों से कठिन समय में अलग जीवन व्यतीत कर रहे हैं। कार्यक्रम को सम्बोधित करने वालों में साकेत महाविद्यालय के पूर्व प्राचार्य डॉ. सीताराम अग्रवाल, ट्रस्ट के संरक्षक राम बहल जी, ब्रह्मकुमारी संस्था की वी.के. अलका, प्रो. कृष्ण मुरारी सिंह ने मुख्य रूप से सम्बोधित किया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित डॉ. सीताराम अग्रवाल, राम बहल जी, उपाध्यक्ष कवीन्द्र साहनी, कोषाध्यक्ष एकता टण्डन, उपाध्यक्ष मंजूर खान, उमेश चन्द्र इंजीनियर, अवधेश कुमार शुक्ला, राजन अरोड़ा, विनोद कुमार शर्मा, श्रीमती गुड़िया मौर्या, श्रीमती मीना श्रीवास्तव, श्रीमती रेखा विश्वकर्मा, कंचन राठौर, दीप्ती सिंह सहित सैकड़ों की संख्या में महिला व पुरूष कार्यक्रम में उपस्थित थे।

Advertisements

Comments are closed.