नशे में धुत दबंगों ने सीएचसी स्टाफ पर बोला हमला

इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर सीएचसी कर्मचारियों को जमकर पीटा

रूदौली । नशे में धुत दबंगों ने सीएचसी स्टाफ पर हमला बोल दिया। इलाज में लापरवाही का आरोप लगाकर सीएचसी कर्मचारियों को जमकर पीटा और महिला स्टाफ नर्स से अभद्रता भी की।फार्मासिस्ट ,वार्डबॉय चौकीदार गंभीर रूप से घायल हो गए। घटना 31 दिसम्बर रात की है। जब नगर नए साल का जश्न मना रहा था, उस वक्त सीएचसी में कर्मचारियों की पिटाई चल रही थी। दबंगई का आलम यह रहा कि अस्पताल परिसर में घुस कर तोड़फोड़ भी की।
भेलसर चौकी के कांस्टेबल गौरव ने खैरनपुर के पास लगभग नौ बजे नशे की हालत में गिरा मिला जिसे कांस्टेबल ने रुदौली सीएचसी में भर्ती कराया।लगभग एक बजे घायल के तीन साथी आये और सीधे अस्पताल में घुसते हुए गाली गलौज करने लगे।सीधे वह लेबर रूम में गए वहा उपस्थित स्टाफ नर्स से अभद्रता करने लगे। तेज आवाज सुन ड्यूटी पर उपस्थित फार्मासिस्ट राम हरीश चौधरी,वार्ड बॉय अनिल कुमार व चौकीदार विनोद कुमार पहुँचे व उन्हें समझाने लगे। जिसपर वह सब उपद्रव करने लगे। साथी का इलाज सही से न करने का आरोप लगाते हुए बहस करने लगे, तभी उन चारों में से एक ने फार्मासिस्ट को थप्पड़ मार दिया। तभी तीन अन्य ने शेष स्टाफ को धक्का मारकर ओपीडी रूम बंद कर लिया,और फार्मासिस्ट की पिटाई करने लगे। स्टाफ व मरीजो के तीमारदारों ने किसी तरह रुम खोलकर फार्मासिस्ट को बचाया।तभी एक व्यक्ति ने अपनी कार से डंडा निकाल कर मारपीट शुरू कर दी। जिससे फार्मासिस्ट राम हरीश,वॉर्ड बॉय अनिल कुमार व चौकीदार घायल हो गए।जानकारी पर जब तक डायल 100 पुलिस व चौकी इंचार्ज भेलसर विनोद सिंह पहुँचे तब तक वह सभी फरार हो गए। सभी घायल कर्मचारियों का सीएचसी पर इलाज चल रहा है। चिकित्सा अधीक्षक डॉ पी के गुप्ता ने बताया कि नशे में भर्ती व्यक्ति का नाम मनीष कुमार सिंह जो किसी बैंक में उमापुर में कार्यरत हैं।स्टाफ नर्स ने बताया कि सभी नशे में थे।

इसे भी पढ़े  UP पुलिस ने अपनी पहचान, झंडे को किया सैलूट

सीएचसी में आठ घन्टे रहा कार्य बहिष्कार

रात में इमरजेंसी ड्यूटी पर तैनात कर्मचारियों की पिटाई का मामला तूल पकड़ रहा है। आरोपियों की खोजबीन अभी तक न होने से कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर दिया है। कोतवाल रुदौली विष्वनाथ यादव के समझाने व मुकदमा पंजिकृत करने पर कर्मचारी माने व कार्य प्रारम्भ किया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More