in

सेवा शिविर में 101 नेत्र रोगियों का किया गया मोतियाबिंद ऑपरेशन

मणिराम दास छावनी सेवा ट्रस्ट व कल्याणम् करोति लखनऊ द्वारा आयोजित हुआ ज्योति महायज्ञ

अयोध्या। मणिराम दास छावनी सेवा ट्रस्ट व कल्याणम् करोति लखनऊ द्वारा आयोजित ज्योति महायज्ञ के अंतर्गत निःशुल्क नेत्र चिकित्सा सेवा शिविर दीनबंधु नेत्र चिकित्सालय परिक्रमा मार्ग पर आयोजित किया गया जिसका समापन समारोह रविवार को हुआ। शिविर में 284 नेत्र रोगियों का पंजीकरण किया गया। जिसमें 101 नेत्र रोगियों का मोतियाबिंद ऑपरेशन व अन्य ऑपरेशन किये गये इनमें 55 महिलाएं और 46 पुरुष नेत्ररोगी शामिल रहे । शेष 183 नेत्र रोगियों को रिफ्रेक्शन एवं अन्य नेत्र उपचार से लाभान्वित किया गया। उक्त जानकारी देते हुए दीनबंधु नेत्र चिकित्सालय के प्रबंधक डीएन मिश्रा ने समारोह में उपस्थित लोगों को बताया कि निशुल्क नेत्र चिकित्सा सेवा शिविर में जनपद अयोध्या से 10, अंबेडकर नगर से 12 ,आजमगढ़ से 17, बहराइच से 9, बलरामपुर से 03, बस्ती से 06,बिहार से 01, गोंडा से 14 ,गोरखपुर से 02, जौनपुर से 7 , संत कबीर नगर से 04, श्रावस्ती से एक, सिद्धार्थ नगर से दो ,सुल्तानपुर से पांच, मऊ जनपद से 5 ,तथा बलिया से 3 नेत्र रोगियों का इलाज किया गया। नेत्र शिविर के समापन अवसर पर आयोजित समारोह में गोकुल भवन के महंत परसुराम दास ने संत राम मंगल दास के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित किया। उन्होंने कहा कि परोपकार से बढ़कर कोई धर्म नहीं है । नेत्रदान सबसे बड़ा दान है, बिना नेत्र के सब कुछ व्यर्थ है। नेत्र ज्योति प्रदान करना सबसे बड़ा पुनीत कार्य है । इस अवसर पर डॉ आर एस पांडे, स्वामी माधवानंद सहित अन्य लोगों ने संबोधित किया । समापन समारोह का संचालन कल्याणं करोति के सचिव विमल शर्मा ने किया । इस अवसर पर जानकारी देते हुए अवगत कराया गया कि 5 नवंबर 2005 से 2 मार्च 2019 तक कुल 633592 नेत्र रोगियों का पंजीकरण किया जा चुका है। 480698 नेत्र रोगियों का परीक्षण एवं अन्य विधियों से उपचार किया गया, जबकि 150595 नेत्र रोगियों के मोतियाबिंद का ऑपरेशन किया गया। 2299 अन्य ऑपरेशन हुए । कुल मिलाकर अब तक 152894 ऑपरेशन किए जा चुके इनमें से 115008 ऑपरेशन पूर्णतया निःशुल्क हुए। शेष 37886 नेत्र रोगियों से आंशिक सहयोग लेकर ऑपरेशन किए गए। सभी ऑपरेशन सफल रहे हैं। दीनबंधु नेत्र चिकित्सालय में डॉ निशांत राय ,डॉ. अक्षत, डॉ. वाई पी तिवारी, डॉ वीके श्रीवास्तव व डा, शुक्ला निरंतर अपनी सेवाएं दे रहे हैं जिनसे लाखों नेत्र रोगियों को लाभ हो रहा है । इस समापन समारोह का शुभारंभ मणिराम दास छावनी के युवा संत रामजी शास्त्री ने मंत्रोच्चारण और ईश वंदना करके किया। शिविर के समापन पर नेत्र रोगियों को भोजन दिया गया। उन्हें निःशुल्क चश्मा, दवाइयां देकर घरों को रवाना किया गया ।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन की हुई बैठक

स्वस्थ्य पशु हमारी समृद्धि और उन्नति का परिचायक : वेद गुप्ता