The news is by your side.

परास्नातक में 101 एवं पीएचडी में 52 रिक्त सीटों पर प्रवेश

-सफलतापूर्ण तरीके से काउंसिलिंग प्रक्रिया संपन्न होने पर कुलपति ने दी बधाई

कुमारगंज। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय में रिक्त सीटों पर चल रही ऑफलाइन काउंसिलिंग की प्रक्रिया सोमवार को संपन्न हो गई।काउंसिलिंग की प्रक्रिया सफलतापूर्वक संपन्न किए जाने पर कुलपति डा. बिजेंद्र सिंह ने प्रशन्नता जाहिर की है साथ ही सभी जिम्मेदार अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बधाई दी है।

Advertisements

काउंसलिंग की प्रक्रिया में परास्नातक में कुल 101 अभ्यर्थियों ने रिक्त सीटों पर प्रवेश लिया। प्रवेश लेने वाले 26 छात्र-छात्राओं का अपग्रेडेशन किया गया। वहीं पीएचडी में कुल 52 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया और 12 अभ्यर्थियों का अपग्रेडेशन किया गया। कृषि विश्वविद्यालय के उपकुलसचिव डा. सुशांत श्रीवास्तव ने जानकारी देते हुए बताया कि परास्नातक में आचार्य नरेंद्र देव कृषि विश्वविद्यालय, अयोध्या में कुल 19 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया जबकि 08 अभ्यर्थियों का अपग्रेडेशन किया गया। वहीं चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कानपुर में परास्नातक में 45 ने प्रवेश लिया एवं 07 अभ्यर्थियों का अपग्रेडेशन किया गया। सरदार वल्लभ भाई पटेल कृषि एवं प्रौद्योगिक विवि, मेरठ में कुल 17 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया तथा 07 का अपग्रेडेशन किया गया।

कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, बांदा में 20 ने प्रवेश लिया तथा 04 अभ्यर्थियों का अपग्रेडेशन किया गया। डा सुशांत श्रीवास्तव ने बताया कि पीएचडी में आचार्य नरेंद्रदेव अयोध्या में 7 ने प्रवेश लिया जबकि 3 अभ्यर्थियों का अपग्रडेशन हुआ। कानपुर कृषि विवि में पीएचडी में 20 ने प्रवेश लिया जबकि 5 अभ्यर्थियों का अपग्रेडेशन हुआ। बांदा कृषि विवि में पीएचडी में 12 ने प्रवेश लिया और यहां किसी भी छात्र ने अपग्रेडेशन नहीं कराया। मेरठ कृषि विवि में 13 अभ्यर्थियों ने प्रवेश लिया और 4 छात्रों का अपग्रेडेशन हुआ। उपकुलसचिव ने बताया कि अन्य रिक्त सीटों के लिए फाइनल काउंसलिंग अक्टूबर माह में होगी।

इसे भी पढ़े  सड़क किनारे मिला बाईक सवार युवक का शव

इसके लिए कुलसचिव कार्यालय समय निर्धारित करेगा। काउंसिलिंग प्रक्रिया को सफल बनाने में डा. नवीन कुमार सिंह, डा. धर्मेश, डा. उमेश चंद्रा, डा. समीर कुमार, डा. जेपी सिंह, डा. रुमा, डा. शिवनाथ, डा. चंद्रशेखर सहित कमेटी के सभी अध्यक्षों, सदस्यों एवं कुलसचिव कार्यालय के समस्त कर्मचारियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

Advertisements

Comments are closed.