अखिलेश रक्त सेवा अभियान मसीहा बन दे रही जरूरतमंदों को जीवनदान

डॉ. आशीष पाण्डेय दीपू ने बब्लू कश्यप को तीन यूनिट रक्त दिलवाकर बचाई मरीज की जान

अयोध्या। जिला अस्पताल अयोध्या में अर्थो वार्ड में भर्ती बब्लू कश्यप का ऑपरेशन रक्त के अभाव में संभव नहीं हो पा रहा था,कुछ दिन पहले सड़क पर एक भारी वाहन टक्कर मारने पर भीषण दुर्घटना का शिकार हो गया जिससे उसका पैर फैक्चर हो गया।परिवार में छोटे छोटे बच्चों के कारण कोई रक्त देने वाला नहीं था। ऑपरेशन होना तत्काल जरूरी था,परिवार और रिश्तेदारों ने बब्लू कश्यप से दूरी बना ली। ऐसी स्थिति में मरीज का ईलाज कर रहे डॉ आशीष श्रीवास्तव ने और बब्लू कश्यप के परिवार ने जनेश्वर मिश्र सेवा फॉउंडेशन के अध्यक्ष और अखिलेश रक्त सेवा निःशुल्क अभियान के संयोजक डॉ आशीष पाण्डेय दीपू से संपर्क किया।
डॉ आशीष पाण्डेय दीपू तत्काल बब्लू कश्यप को 3 यूनिट रक्त दिलवाकर मरीज की जान तो बचायी साथ ही सफल आपरेशन करवा कर उसका फिर से अपने पैरों पर खड़ा होने में मदद किया।डॉ आशीष पाण्डेय दीपू पिछले 5 वर्षों से नौजवानों को रक्तदान के लिए प्रेरित करते आ रहे है, इस सत्र में 205 यूनिट रक्त दान करवाकर उनकी संस्था जनेश्वर मिश्र सेवा फॉउंडेशन आस पास के सभी।मंडलो में रिकार्ड कायम कर चुकी है।5 वर्षों में अब तक जनेश्वर मिश्र सेवा फॉउंडेशन ने 34 00 नौजवानों को रक्तदान की मुहिम से जोड़ने का काम किया है।।सत्र 2018 -2019 में अखिलेश रक्त सेवा निःशुल्क अभियान ने साहबगंज निवासी आभास राज यादव को 1 यूनिट रक्त ,नाजमीन बानो निवासी बारून को 1 यूनिट रक्त,उदय भान यादव निवासी मया को 1 यूनिट,अभिषेक निषाद निवासी रेतिया को 1 यूनिट,दीना नाथ तिवारी निवासी मिल्कीपुर को 1 यूनिट रक्त देकर,राम बरन यादव निवासी रुदौली को 1 यूनिट,कु रूमा निवासी बाकरगंज को 1 यूनिट सहित सैकड़ो जरूरतमंदो का लगातार जीवन बचाने का कार्य कर रहे है।जनेश्वर मिश्र सेवा फॉउंडेशन के अध्यक्ष और अखिलेश रक्त सेवा निःशुल्क अभियान के संयोजक डॉ आशीष पाण्डेय दीपू के साथ आचार्य हनुमान प्रसाद पाण्डेय, अंशु सिब्बल,मयंक दुबे, आशीष जायसवाल, राजन तुलसी, शुभ जायसवाल,मो यासीन, मो शाहीक,राहुल राजपाल, भूपेंद्र पाण्डेय, पवन अरोड़ा, पवन यादव सहित सैकड़ो नौजवान इस अभियान से जुड़कर असहायों की सेवा में समर्पित रहते है।।डॉ आशीष पाण्डेय दीपू को रक्तदान के छेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रयास के लिए जिलाधिकारी अयोध्या कईं बार सम्मानित भी कर चुके है।।

इसे भी पढ़े  बिम के नीचे दबकर मजदूर की मौत

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More