बढ़ती महंगाई से मजदूरों को काम मिलना हुआ मुश्किल

0

सपा प्रतिनिधि मण्डल ने काम की तलाश में खड़े मजदूरों से की मुलाकात

फैजाबाद। समाजवादी पार्टी का एक प्रतिनिधि मण्डल सपा के पूर्व प्रदेश सचिव मोहम्मद हलीम पप्पू के अगुवाई में चैक घण्टाघर पहुॅंचकर वहाॅं काम की तलाश में खड़े मजदूरों से मुलाकात कर उनकी पीड़ा जानी। प्रतिनिधि मण्डल में सपा जिला उपाध्यक्ष बाबूराम गौड़, प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी, पूर्व ब्लाक प्रमुख राम अचल यादव, जिला कार्यकारिणी सदस्य अजय विश्वकर्मा, सनी यादव व मुकेश जायसवाल, रवि साहू, मोहम्मद जावेद आदि मौजूद थे। मजदूरों ने प्रतिनिधि मण्डल को बताया कि दो वक्त की रोटी के लिये बड़ा संकट आ खड़ा हुआ है। बढ़ती महंगाई के इस दौर में जहाॅं खाने पीने की चीजें आसमान छू रही हैं वहीं मकान बनाने के सभी मैटेरियल जैसे ईंट, बालू, मोरंग, सीमेन्ट, सरिया आदि के दामों में रोजाना तेजी आ रही है जिससे आम आदमी अपना मकान आसानी ने नहीं बनवा सकता है। मजदूरों ने प्रतिनिधि मण्डल को बताया कि काम की तलाश में रात में तीन बजे ही उठकर तैयार होकर साइकिल से व अन्य साधनों से शहर पहुॅंचते हैं। कभी काम मिलता है तो कभी काम नहीं मिलता है। प्रतिनिधि मण्डल की अगुवाई कर रहे पूर्व प्रदेश सचिव मोहम्मद हलीम पप्पू ने कहा कि गरीबों के सामने काम मिलने का बड़ा संकट है। बढ़ती महंगाई ने कमर तोड़ दी है। खाने पीने की चीजों के साथ-साथ अन्य सभी वस्तुओं के दाम भी आसमान छूने लगे हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी को अपनी छत बनाने के लिये कई बार सोचना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जो मजदूर काम नहीं पाते हैं उनका चूल्हा शाम को नहीं जल पाता है। पूर्व ब्लाक प्रमुख राम अचल यादव ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के कारण ईंट भट्ठों की स्थिति दिनों दिन खराब होती जा रही है। ईंटों की बिक्री नहीं हो रही है जिसके कारण आवास बनाने की रफ्तार भी धीमी हो गयी है और इसी कारण मजदूरों को प्रतिदिन काम नहीं मिल पा रहा है मजदूर परेशान हैं और दर-दर भटक रहे हैं जिससे भीख मांगने की नौबत आ गयी हैं। सपा प्रवक्ता ओम प्रकाश ओमी ने बताया कि दिनों दिन कम मांग होने के कारण ईंटों के दामों को भट्ठा मालिक सस्ते दामों में बेंच रहे हैं। अव्वल ईंट प्रति हजार बारह हजार से पाॅंच हजार मीठा अव्वल दस हजार से चार हजार हो गया है। उन्होंने कहा कि जनपद में लगभग 250 ईंट भट्ठें हैं जिसमें लगभग चालिस हजार श्रमिक काम करते हैं जिनके सामने रोजी-रोटी का संकट आ चुका है। उन्होंने कहा कि घर बनाने का मैटेरियल आसमान छू रहा है जिसमें सीमेन्ट 360 से लेकर 380 रूपये प्रति बोरी, मोरंग की ट्राली 7300 रूपये, बालू की ट्राली 2800 रूपये व लोहे की सरिया 5400 से 6700 रूपये प्रति कुन्तल के दर से बिक रही है। प्रवक्ता ने बताया कि प्रतिनिधि मण्डल ने चैक में मौजूद दरियाबाद के दीपक, मोहम्मद कलीम, उमेश, निजामुद्दीन, खण्डासा के मोहम्मद नईम, शिवशंकर, राजकुमार, कुमारगंज के राकेश, सनी, अयोध्या के रमेश, सुरेश, मया बाजार के गयाराम, मुबारकगंज के नीरज, नवाबगंज के रामलौट, राम आसरे, भरतलाल व रूदौली, गोशाईगंज, बाकरगंज आदि कस्बों से आये मजदूरों ने प्रतिनिधि मण्डल के सदस्यों को अपना हाल सुनाया।

इसे भी पढ़े  राजीव गांधी सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का हुआ पुरस्कार वितरण

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: