अवध विवि में ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव का आगाज

ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव का उददेश्य खिलाडियों को सभी मौसम के अनुकूल बनाना: प्रो. मनोज दीक्षित

ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव के उदघाटन पर विचार व्यक्त कतरे कुलपति प्रो मनोज दीक्षित

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय की क्रीड़ा परिषद द्वारा राज्यस्तरीय विशाल खेल महोत्सव-2019 का आयोजन आज दिनांक 13 मई, 2019 को विश्वविद्यालय नवीन परिसर के खेल प्रांगण में किया गया। ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव का उद्घाटन मुख्य अतिथि यशभारती पुरस्कार से सम्मानित एवं भारतीय ओलम्पिक संघ के कोषाध्यक्ष आनन्देश्वर पाण्डेय एवं विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने नारियल तोड़कर प्रतियोगिता का शुभारम्भ किया।
उद्घाटन सत्र में खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि आनन्देश्वर पाण्डेय ने कहा कि जब खेल होगा तो युवा समृद्ध होगा। जब युवा समृद्ध होगा तो देश समृद्ध होगा। यदि आप खेल से जुड़े है तो निश्चित रूप से स्वास्थ्य अच्छा होगा। तब आप सभी क्षेत्र में कार्य कर सकते है। पाण्डेय ने कहा कि इतिहास साक्षी रहा कि ग्रामीण क्षेत्रों से बड़े पैमाने पर प्रतिभावान खिलाड़ी उभरे है। इसी प्रकार के खेलों से निकलकर आप लोग खिलाड़ी, प्रशिक्षक बनकर सेवा के विभिन्न क्षेत्रों में अपनी भूमिका का निर्वहन करेंगे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने कहा कि ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव का उददेश्य खिलाडियों को सभी मौसम के अनुकूल बनाना है ताकि वे अपना बेहतर प्रदर्शन कर सके। प्रो0 दीक्षित ने कहा कि खिलाड़ी की भूमिका एक फौजी की तरह होती है जिसे प्रत्येक स्थिति में अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए तैयार रहना पड़ता है। खिलाड़ियों को आदर्श परिस्थितियां नही मिलती। हर परिस्थिति के लिए तत्पर रहना खिलाड़ी का घ्येय होना चाहिए। कुलपति ने कहा कि भारत की प्रतिभा ग्रामीण क्षेत्रों में फैली है। सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी 90 प्रतिशत ग्रामीण अंचलों से है। सिर्फ 10 प्रतिशत नगरीय क्षेत्रों से जुड़े है। महंगा खेल नगरों तक ही सीमित है। ग्रामीण प्रतिभायें अवसर मिलने पर क्षेत्र और देश का नाम राष्ट्रीय फलक पर ले जाती है। प्रतिभागियों का मनोबल बढ़ाते हुए प्रो0 दीक्षित ने कहा कि विश्वविद्यालय सुविधायें, कोचिंग, कंडीशनिंग की समुचित व्यवस्था कर खेल प्रतिभाओं को निखारने के लिए प्रतिबद्ध है। विशिष्ट अतिथि के रूप में आर0पी0 सिंह क्षेत्रीय क्रीड़ा अधिकारी अयोध्या, सी0के0 शर्मा, पर्यवेक्षक आनन्द किशोर पाण्डेय एवं क्रीड़ा अध्यक्ष प्रो0 आर0के0 तिवारी रहे।
ग्रीष्मकालीन खेल महोत्सव का शुभारम्भ माॅ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ किया गया। अतिथियों का स्वागत स्मृति चिन्ह एवं अगवस्त्रम भेंटकर किया गया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ0 अर्जुन सिंह ने किया। धन्यवाद ज्ञापन आयोजन सचिव डाॅ0 मुकेश वर्मा ने की। इस खेल महोत्सव में 14 महाविद्यालयों की टीमें प्रतिभाग कर रही है। आज प्रातः परिसर के एमिनिटी सेंन्टर में ताइक्वांडों प्रतियोगिता दो टीमों की बीच प्रारम्भ हुई। इसका शुभारम्भ प्रति कुलपति प्रो0 एस0एन0 शुक्ल ने किया। नवीन परिसर में रस्साकशी प्रतियोगिता टी0आर0सी0 महाविद्यालय एवं संत तुलसीदास महाविद्यालय के मघ्य हुई। इस अवसर पर कार्यपरिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह, उपकुलसचिव विनय कुमार सिंह, मुख्य नियंता प्रो0 आर0एन0 सिंह, प्रो0 एम0पी0 सिंह, प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह, डाॅ0 विजय मित्र द्विवेदी, प्रो0 रमापति मिश्र, प्रो0 राजीव गौड़ प्रो0 विनोद श्रीवास्तव, डाॅ0 आर0के0 सिंह, डाॅ0 संतोष गौड़, डाॅ0 अनिल मिश्र, डाॅ0 शैलेन्द्र वर्मा डाॅ0 विजयेन्दु चतुर्वेदी, डाॅ0 अनुराग पाण्डेय, डाॅ0 आर0एन0पाण्डेय, डाॅ0 प्रतिभा त्रिपाठी, डाॅ0 संघर्ष सिंह सहित अन्य प्रतिभागी उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े   विकलांग दंपत्ति ने एसएसपी कार्यालय पर शुरू किया आमरण अनशन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More