मानसिक रोगों में आत्महत्या आखिरी लक्षण: डाॅ. प्रदीप यादव

मानसिक रोग व अवसाद शिविर का हुआ आयोजन

रूदौली। आत्महत्या एक तरह से अब बीमारी मान ली गई है पहले इसको एक दोष माना जाता था और इसपे क्रिमिनल एक्शन लिया जाता था लेकिन अब ये एक बीमारी मान ली गई है। उक्त बातें तहसील रूदौली के सभागार में सिटी हॉस्पिटल भेलसर चैराहे के सौजन्य से शनिवार को आयोजित मानसिक रोग व अवसाद शिविर में बीएचयू बनारस के मनोरोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप कुमार यादव ने कही । उन्होंने यह भी कहा कि कई तरह की बीमारियां शरीर मे जब अपने चरम पर पहुच जाती है तो आत्महत्या की प्रवृति में इंसान आ जाता है अगर इसका समय से समाधन न हुआ तो जैसे शारीरिक बीमारियों में कैंसर आखिरी लक्षण माना गया है उसी प्रकार मानसिक रोगों में भी आत्महत्या आखिरी लक्षण है।अगर समय से इसका इलाज हो जाये तो इस अवसाद से ग्रस्त मरीज को बचाया जा सकता है।शिविर को सम्बोधित करते हुए उन्होंने बताया कि मानसिक बीमारियों में दो कटेगरी होती है एक मे मरीज को पता रहता है कि हमे कौन सी बीमारी है जैसे उदासी ,घबराहट,नींद न आना आदि शामिल है दूसरे में मरीज को खुद नही पता रहता है कि हमे कौन सी बीमारी है जिसमे मरीज का व्यवहार बदल जाता है ,कभी कभी खुद बुदबुदाता है ,गुस्सा कर सकता है और शक की प्रवृतियां, डर लगना आदि भी मानसिक रोग होने के लक्षण है ।इसलिए समय से मानसिक रोगों के लक्षण पहचान में आ जाये तो तत्काल डाक्टर से सम्पर्क करना चाहिए इसका इलाज संभव है।वही उपजिलाधिकारी ज्योति सिंह ने भी शिविर को सम्बोधित करते हुए अपने अनुभवों को साझा किया।कार्यक्रम मे मुख्य रूप से सिटी हास्पिटल के एमडी डॉ विक्रम पाल सिंह ,तहसीलदार शिव प्रसाद ,नायाब तहसीलदार पैगाम हैदर,बार एशोसिएशन के अध्यक्ष इन्द्रसेन मिश्रा ,पूर्व बार अध्यक्ष अफसर रजा रिजवी, सर्वदमन पांडेय ,राम भोलातिवारी,अब्दुल हई ,गया शंकर कश्यप, अम्बिका यादव,रामेश्वर यादव ,वीरेंद्र यादव,अमित यादव ,गौतम मौर्य,सहित तमाम अधिवक्ता व प्रबुद्ध जन उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  बिना मास्क घूम रहे 584 लोगों पर पुलिस ने की कार्रवाई

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More