गुलाबबाड़ी मैदान में शुरू हुआ श्री अवध महोत्सव

महोत्सव में प्रतिदिन होंगे नए-नए सांस्कृतिक कार्यक्रम

अयोध्या। गुलाबबाड़ी मैदान में राम वल्लभा कुंज के अधिकारी राजकुमार दास, दशरथ गद्दी के महंत बृजमोहन दास, हनुमानगढ़ी के राजू दास व अयोध्या मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने महोत्सव का फीता काटकर समारोह पूर्वक शुभारंभ किया महोत्सव 12 दिन चलेगा। उद्घाटन के पश्चात आयोजक सचिन ठाकुर तथा संयोजक शैलेंद्र पांडे मासूम द्वारा संयुक्त रूप से मुख्य अतिथि महापौर तथा विशिष्ट अतिथियों का माल्यार्पण और सालयाअर्पण से स्वागत किया गया। उसके पश्चात बाल कलाकार नव्या मिश्रा द्वारा मां वीणा वादिनी की स्तुति पर बहुत ही मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता महोत्सव के प्रेरणा स्रोत अशोक टाटअंबारी ने किया। महापौर ने श्री अयोध्या महोत्सव की सफलता के प्रति अपनी शुभकामनाएं दी और कहा इसमें नए कलाकारों को मार्गदर्शन और प्रेरणा मिले जिससे उनका भविष्य उज्जवल हो और मार्ग प्रशस्त हो सांस्कृतिक के आदान-प्रदान से सामाजिक समरसता को भी बल मिले ।कार्यक्रम संयोजक शैलेंद्र मासूम ने कहा कि श्री अयोध्या महोत्सव एक साहित्यिक मंच है जिसमें दबे हुए कलाकारों को उभारने का प्रयास किया जाएगा । इस महोत्सव में प्रतिदिन नए-नए सांस्कृतिक कार्यक्रम होते रहेंगे सरकार की योजनाएं जैसे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर विचार गोष्ठी, गजल नाइट लखनऊ के मशहूर गजल गायक चंद्रेश एवं नीरजा की जुगलबंदी, स्वच्छता अभियान पर विचार गोष्ठी, सांस्कृतिक कार्यक्रम मुकेश कुमार तथा पार्टी द्वारा, बाल कलाकारों का सांस्कृतिक कार्यक्रम एवं स्वास्थ्य पर विचार गोष्ठी, लखनऊ के मशहूर पूरे देश में नृत्य का डंका बजा रही उन बाल कलाकारों के क्रमशः स्वरा त्रिपाठी, पर्निका श्रीवास्तव तथा येसु वर्मा द्वारा नृत्य का भी कार्यक्रम है। कार्यक्रम संयोजक ने बताया हमारे यहां कलाकार साहित्यकार अपने कार्यक्रम प्रस्तुत करने हेतु कभी भी संपर्क कर सकते हैं जो कि पूर्णतया निशुल्क रहेगा। शुभारंभ के मौके पर अयोध्या नगर निगम के मेयर ऋषिकेश उपाध्याय, भाजपा जिला अध्यक्ष अवधेश पांडेय बादल ,प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य राजेंद्र प्रताप सिंह,टनाटन बस्तवी आलोक पांडे, शिवम राय ,अरविंद मौर्य, कमल चौहान ,रोहित सिंह ,बृजेश द्विवेदी, हृदय राम आजाद, अरुण, अनंत ,उदय कांत, अर्थ व पांडे, अनिमेष पांडे, आदि सैकड़ों लोग रहे मौजूद।उद्घाटन के मौके पर कई कवियों ने काव्य पाठ किया।

इसे भी पढ़े  एक दिन के लिए कोतवाल बनी निशा तिवारी

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More