धूमधाम से मनाया गया शहीद बाबा का सालाना उर्स

5

जायरीनों ने मजार पर चढ़ाई चादर

गोसाईगंज । दो दिवसीय उर्स मुबारक महमदपुर धामापट्टी जिला अम्बेडकरनगर में हर वर्ष की भांति 1 व 2 मई 2019 को उर्स का आयोजन धूमधाम से हजरत मोहम्मद शहीद बाबा के सालाना उर्स बृहस्पतिवार को अकीदत और एहतेराम के साथ मनाया गया। सुबह कुरआन ख्वानी से शुरू हुआ उर्स देर रात कव्वाली के साथ खत्म हुआ। दिन भर भारी संख्या में जायरीनों का बाबा के मजार पर आना जाना लगा रहा। भारी संख्या में लोगों ने मन्नतें मांगीं और फातेहा पढ़ा। शाम को शहीद बाबा मजारे पाक का गुस्ल एवं चादर पोशी भी की गई। इस दौरान भारी संख्या में लोग शामिल हुए।
शहीद बाबा के उर्स के दूसरे दिन महमदपुर स्थित हजरत मोहम्मद शहीद बाबा का सालाना उर्स होता है। वर्ष दर वर्ष उर्स में अकीदत मंदों की भीड़ बढ़ती जा रही है। इसके भारी संख्या में हिंदू और मुसलमानों के शिरकत करने से यह महमदपुर धामा पट्टी की गंगा जमुनी तहजीब का मरकज बना हुआ है। बाबा के मजार पर एक ओर जहां भारी संख्या में मुसलिमों की भागीदारी होती है तो हिंदू आस्थावानों की गिनती भी कम नहीं होती। देर रात महफिले शमा का कार्यक्रम शुरू हुआ जो भोर तक चला।कौव्वाल ताहिर चिश्ती बदायूँ और अरशद वासी बरेली शरीफ के बीच कव्वाली मुकाबले का लोगों ने जमकर लुत्फ उठाया। इस दौरान बड़ी संख्या में जायरीन बाबा की मजार पर चादर चढ़ाने, मन्नतें उतारने के अलावा फातेहा पढ़ने पहुंचे। कमेटी द्वारा जायरीनों की सुविधा के लिए खान-पान सहित पेयजल का समुचित इंतजाम किया गया था। कमेटी के नन्कू फल, सिराज अहमद मेला उपाध्यक्ष चाँद बाबू राईन नईम अहमद आदि ने व्यापक सहयोग किया। हजरत शहीद बाबा में नगर के गोसाईगंज निवासी नन्कू फल वाले की तीव्र आस्था है। उनका मानना है कि वे आज जो कुछ भी हैं वह बाबा की मेहरबानी से हैं। इस वर्ष भी बृहस्पतिवार को उनकी जानिब से मजार पर लंगर चलाया गया जिसमें हजारों जायरीनों ने हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़े  युवा उत्तरदायी नीतियों और कार्यक्रमों के लिए अपनी चिंताओं को दें आवाज : श्रीराम हरिदास

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More