The news is by your side.

दर्शनार्थियों की सेवा ही आरोग्य भारती के चिकित्सकों के लिए सबसे बड़ा रामकाज

-देशभर से चिकित्सकों के सेवा आवेदन को तिथिवार 29 फरवरी तक के लिए नियोजित किया गया

अयोध्या। श्रीरामजन्मभूमि प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में सभी अपनी योग्यता क्षमता और श्रद्धा के अनुरूप योगदान कर रहे हैं, ऐसे में आने वाले दर्शनार्थियों को मौसम के अनुरूप संभावित स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान हेतु तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट व प्रशासन ने चिकित्सा सेवा शिविर लगा रखे हैं। शिविरों का संचालन में समन्वयक दशरथ मेडिकल कालेज से डॉ पीयूष गुप्ता, डॉ मनोज सिंह व आरोग्य भारती अवध प्रान्त सहसचिव डॉ उपेन्द्र मणि त्रिपाठी के संयोजन में विभिन्न संगठनों के देशभर से चिकित्सकों के सेवा आवेदन को तिथिवार 29 फरवरी तक के लिए नियोजित किया गया है।

Advertisements

चिकित्सा सेवा समन्वयक एवं आरोग्य भारती के अवध प्रान्त सहमंत्री डॉ उपेन्द्र मणि त्रिपाठी ने बताया आरोग्य भारती द्वारा प्राकृतिक चिकित्सालय मणिराम दास छावनी परिसर में संजीवनी कुटी में होम्योपैथी आयुर्वेद व एलोपैथी के चिकित्सक दिनरात आगंतुक श्रद्धालुओं की सेवा में योगदान दे रहे हैं। प्रतिदिन दर्द, सर्दी, खांसी, सैकड़ों मरीज शिविर से लाभांवित होते हैं। 15 जनवरी से 25 जनवरी के प्रथम चरण में डॉ लक्ष्मी अग्निहोत्री, डॉ कल्पना कुशवाहा, डॉ दीपक गुप्ता, डॉ शिवेंद्र मिश्र, डॉ मनीष राय, डॉ अविनाश शुक्ल, डॉ सुनील सिंह ,डॉ आर के जायसवाल, के अतिरिक्त कानपुर से डॉ अर्जुन भ्रतरी, सूरत के डॉ दिनेश गोयल, लखनऊ के डॉ इंद्रेश सिंह, वाराणसी के डॉ मनीष त्रिपाठी, अंबेडकर नगर के डॉ आशीष गुप्ता डॉ स्मृति गुप्ता बस्ती के डॉ दीपक सिंह ने सेवाएं दीं। शिविर संयोजन डॉ अजित प्रताप सिंह ने किया।

द्वितीय चरण 26 जनवरी से 31 जनवरी तक होम्योपैथी चिकित्सा विकास महासंघ के चिकित्सक डॉ दीपक सिंह के संयोजन में शिविर में अपनी सेवाएं देंगे जिसके बाद 1 फरवरी से 14 फरवरी तक आरोग्य भारतीकाशी प्रान्त के चिकित्सक डॉ मनीष त्रिपाठी के व 15 से 28 फरवरी तक गोरक्षप्रान्त के चिकित्सक अपनी सेवाएं देंगे। शिविर में निजी चिकित्सक अपने सेवा भाव मे दवाएं भी उपलब्ध करवा रहे हैं। आरोग्य भारती क्षेत्र संयोजक डॉ संग्राम सिंह,व प्राण प्रतिष्ठा में आमंत्रित राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राकेश पंडित ने चिकित्सकों से भेंट कर सेवा कार्य की सराहना कर उनका मनोबल बढ़ाया। रामलला के विराजमान होने के बाद दर्शनों की अभिलाषा भी चिकित्सकों में है किंतु दर्शनार्थियों की सेवा को अपना सर्वोपरि कर्तव्य मानकर उनकी सेवा से संतुष्टि प्राप्त कर रहे हैं। चिकित्सक कहते हैं यह हमारी पीढ़ी के लिए गर्व की बात है कि हम इतने पावन ऐतिहासिक अवसर पर रामकाज के सेवाकार्य में लगे हैं। साकेत निलयम में डॉ उपेन्द्र मणि त्रिपाठी, डॉ जलद श्रीवास्तव, डॉ बृजेश, डॉ अभय प्रताप व डॉ सचिन देव अपनी नियमित सेवाएं दे रहे हैं।

इसे भी पढ़े  संविधान संशोधन की बात कहकर बाबा साहब का अपमान कर रहे बीजेपी के लोग : के.एच. मुनियप्पा

 

Advertisements

Comments are closed.