आरजेबी सुरक्षा के लिए होगा फुलप्रूफ सिस्टम: डा. मनोज कुमार

नवागत एसएसपी ने कहा पुलिस नेताओं के दबाव में नहीं करेगी कार्य, पुलिस कर्मी भी करप्ट पाये गये तो होगी कार्यवाही

फैजाबाद। राम जन्मभूमि की सुरक्षा व्यवस्था के लिए फुलप्रूफ सिस्टम लागू होगा। महत्वपूर्ण स्थानों पर सीसी टीवी कैमरे लगाये जायेंगे और एक्सेस और एंटी सर्विलासं टीम आदि की व्यवस्था चुस्त दुरूस्त की जायेगी जिससे परिसर में अवाछित तत्व व सामान न पहुंच सके। यह जानकारी नवागत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. मनोज कुमार ने पदभार ग्रहण करने के बाद पुलिस लाइन सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में दिया।
उन्होंने कहा कि हमारी अन्य प्राथमिकताओं में कानून और व्यवस्था दुरूस्त करना, साम्प्रदायिक सौहार्द बनाये रखना, वीआईपी आयोजनों को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाना और अपराधों को पूरी तरह से काबू करना होगा। उन्होंने कहा कि पुलिस की छवि आम जनता में अच्छी नहीं है इसलिए उसे ठीक किया जायेगा। यदि कोई भी पुलिसकर्मी यदि कानून के दायरे से बाहर रहकर कार्य करता पाया गया तो उसके विरूद्ध भी कड़ी कार्यवाही की जायेगी। हमने पुलिस अधिकारियों और आरक्षियों को स्पष्ट निर्देश दिया है कि यदि कोई नशा करता हुआ पाया गया और करप्शन में लिप्त देखा गया तो उसे जेल भेजा जायेगा। उन्होंने बताया कि एफआईआर पंजीकरण पूरी तरह निःशुल्क होगा मामला चाहे जैसा हो एफआईआर दर्ज की जायेगी तथा उसकी विवेचना कराये जाने के बाद कड़ी कार्यवाही होगी। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि चाहे वह सत्ता पक्ष के हों या विपक्ष के हों वह जनता की बात रख सकते हैं हम गम्भीरता से मामलों का निस्तारण करायेंगे। उन्होंने सोशल मीडिया को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि इसमें आम आदमियों की भी भागीदारी सुनिश्चित कर दी है बहुत सी जानकारियों पुलिस को सोशल मीडिया के माध्यम से जल्दी मिल जाती हैं जो आम आदमियों द्वारा दर्ज करायी गयी होती हैं उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान में सभी को अभिव्यक्ति की आजादी है जबतक कोई अपराध नहीं करता तबतक वह कानून के दायरे में नहीं आता। मीडिया का महत्वपूर्ण रोल होता है इसलिए पुलिस भी उन्हें पूरा सहयोग करेगी।
नवागत एसएसपी डा. मनोेज कुमार 2006 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं फैजाबाद से पूर्व वह संत कबीर नगर, गोरखपुर, शाहजहांपुर, देवरिया, बहराइच और फिरोजाबाद में तैनात रह चुके हैं।

इसे भी पढ़े  खेत की रखवाली करने गए वृद्ध की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत़

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More