The news is by your side.

वृक्षों से भावनात्मक रूप से जुड़ना होगा : लल्लू सिंह

-अवध विवि में वन महोत्सव के तहत किया गया पौधरोपण

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के एमबीए परिसर के सभागार में वन महोत्सव के तहत वृहद पौधरोपण जागरूकता कार्यक्रम व आईईटी परिसर में वृहद पौधरोपण किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अयोध्या सांसद लल्लू सिंह रहे। विशिष्ट अतिथि अयोध्या महापौर मंहत गिरीशपति त्रिपाठी, वन संरक्षक डॉ. अनिरूद्ध पाण्डेय, वन अधिकारी सित्यांशु पाण्डेय व भाजपा जिलाध्यक्ष संजीव सिंह मौजूद रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता अविवि की कुलपति प्रो. प्रतिभा गोयल ने की।

Advertisements

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अयोध्या सांसद लल्लू सिंह ने कहा कि सभी को भावनात्मक रूप से वृक्ष लगाना होगा। इसमें ग्रामीणजनों को भी शामिल करना चाहिए। इससे पर्यावरण के प्रति एक अच्छे वातावरण का निर्माण होगा। उन्होंने बताया कि देश के प्रधानमंत्री व प्रदेश के मुख्यमंत्री के संकल्पों को वृक्षारोपण के माध्यम से पूरा कराना होगा। सांसद ने कहा कि वर्तमान में हम सभी के ऊपर पाश्चात्य सभ्यता हावी हो गई है। इससे उबरने की आवश्यकता है। सांसद लल्लू सिंह ने विश्वविद्यालय में किए जा रहे पांच हजार वृक्षारोपण की सराहना करते हुए कहा कि यह पर्यावरण के लिए शुभ संकेत है।

छात्रों को आगे आकर वृक्षारोपण के लिए अन्य को भी जागरूक करना चाहिए।कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो0 प्रतिभा गोयल ने कहा कि पेड़ पौधों की महिमा अनंत है। ये पेड़ पौधे हमे क्या नही देते। मूलभूत आवश्यकताओं कपड़ा, रोटी, मकान को ये पेड़ पूरी करते हैं। गुणकारी औषधियां देते है। पेड़ के महत्व को बताते हुए उन्होंने किसी कवि की पंक्तियाँ कही, जब कभी धूप की शिद्दत ने तपाया मुझको याद आया एक पेड़ का साया मुझको। कुलपति ने कहा कि आधुनिक युग में प्रदूषण की समस्याएं बढ़ती चली जा रही हैं।

इसे भी पढ़े  नव्य राम मन्दिर में मना श्रीरामलला का भव्य जन्मोत्सव, सूर्य की किरणों से हुआ तिलक

अनेको बीमारियां मनुष्यों को घेर रही है ऐसे में एक वृक्ष समाज ही है जो हमारे सामने आशा की किरण बनके खड़ा है। ये पेड़ ही है जो वातावरण से जहर पी पी कर हमे ऑक्सीजन प्रदान करते है। हमे वन संरक्षण अवश्य करना चाहिए। कुलपति ने कहा कि पंजाब एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय को हाल ही में ग्रीनेस्ट कैंपस ऑफ दी कंट्री का अवार्ड मिला है। हमारे शास्त्रों में भी पेड़ों के महत्व को भली भांति बताया गया है। महापौर मंहत गिरीशपति त्रिपाठी ने कहा कि हमारी वैदिक संस्कृति ही वन जीवन की रही है। इसमें ऋषियों एवं मुनियों की चेतना व संवेदना ही हमारी संस्कृति है। इसलिए संस्कृति व वनो का अटूट रिश्ता रहा हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी सांस्कृतिक तौर पर सम्पन्न है। पर्यावरण को बचाने के लिए वृक्षारोपण के प्रति सभी को जागरूक होना होगा।

कार्यक्रम में पर्यावरण संरक्षण को लेकर छात्र-छात्राओं के कविता पाठ व पेटिंग प्रतियोगिता के विजेताओं को वृक्ष देकर सम्मानित किया गया। इसके उपरांत एनसीसी व छात्र-छात्राओं को वृक्षारोपण के लिए वृक्ष दिया गया। कार्यक्रम के उपरांत अयोध्या सांसद लल्लू सिंह, अविवि की कुलपति प्रो0 प्रतिभा गोयल, अयोध्या महापौर मंहत गिरीशपति त्रिपाठी, वन संरक्षक डॉ0 अनिरूद्ध पाण्डेय, वन अधिकारी सित्यांशु पाण्डेय, भाजपा जिलाध्यक्ष संजीव सिंह, प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह, प्रो0 एसएस मिश्र, प्रो0 नीलम पाठक, कुलसचिव उमानाथ, प्रो0 शेलेन्द्र वर्मा, डॉ0 विजयेन्दु चतुर्वेदी, इंजीनियर शाम्भवी मुद्रा शुक्ला, डॉ0 रामजी सिंह, डॉ0 आशुतोष पाण्डेय, डॉ0 प्रियंका सिंह, डॉ0 निमिष मिश्र, डॉ0 अंशुमान पाठक, डॉ0 संजीत पाण्डेय, डॉ0 अनुराग तिवारी, डॉ0 श्रीश अस्थाना, डॉ0 महेन्द्र पाल सिंह, जनसम्पर्क अधिकारी आशीष मिश्र सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राओं ने पौधपण किया।

Advertisements

Comments are closed.