The news is by your side.

नागा साधु की हत्या का खुलासा, गुरुभाई ने ही की थी हत्या

-सम्पत्ति के बंटवारे को लेकर चल रहा था केस मुख्य दो अभियुक्त गिरफ्तार, पांच आरोपी अभी चल रहे फरार

अयोध्या। हनुमानगढ़ी के महंत नागा साधु कन्हैया दास की हत्या का अयोध्या पुलिस ने बुधवार को खुलासा कर दिया है। महंत की हत्या के आरोप में उन्हीं के दोनो गुरु भाई गिरफ्तार किए गए हैं। हत्या में 7 लोग लिप्त थे जिसमें अभी पांच फरार चल रहे हैं।
पुलिस लाइंस के सभागार में बुधवार दोपहर एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने पत्रकारों के समक्ष गिरफ्तार अभियुक्तों को पेशकर महंत कन्हैयादास हत्याकांड का खुलासा किया। बकौल एसएसपी हत्या की योजना महाशिवरात्रि के पर्व के दिन ही बनाई गई थी। जिसके बाद 3 अप्रैल को महंत कन्हैया दास की दोनों गुरु भाई गोलू राज उर्फ शशिकांत दास व अंश मिश्रा हनुमानगढ़ी के चरण पादुका मंदिर की गौशाला पहुंचकर दोनों ने अपने गुरु भाई महंत कन्हैया दास की ईट से सिर कूच कर हत्या कर दी थी। हत्या में शामिल तीन अन्य लोग गौशाला के बाहर इनोवा गाड़ी में थे। जो इस बात की निगरानी कर रहे थे कि कहीं कोई आ तो नहीं रहा है। या अगर यह दोनों हत्या नहीं कर पा रहे हैं तो उनकी मदद की जाए। एसएसपी शैलेश पांडे ने बताया कि हत्या में 7 लोग प्रकाश में आए हैं। 2 को थाना रामजन्मभूमि पुलिस ने मोहबरा बाजार चौराहे के पास से गिरफ्तार कर लिया है जबकि पांच अन्य अभी फरार चल रहे हैं। गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से हत्या में प्रयुक्त 2 ईंट व इनोवा कार बरामद कर ली गई है।एसएसपी शैलेश पांडे ने बताया कि जमीन और नकद रुपयों के बंटवारे को लेकर विवाद चल रहा था जिसका मुकदमा हाईकोर्ट में लंबित है। मंदिर के नगद रुपये व जमीन को हड़पने के लिए दोनों गुरु भाई गोलू दास उर्फ शशिकांत दास व अंश मिश्रा ने महाशिवरात्रि पर्व के दिन अपने गुरु भाई महंत कन्हैया दास की हत्या करने की योजना बनाई थी। योजना के तहत 3 अप्रैल की रात चरण पादुका मंदिर के गौशाला में पहुँच कर नागा साधु महंत कन्हैया दास की दोनों ने ईंट से कूच कर हत्या कर दी और फरार हो गए।इसका मुकदमा मृतक महंत के दूसरे शिष्य रामानुज दास ने थाना राम जन्मभूमि में दर्ज कराया था। एसएसपी शैलेश पांडे ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों से कड़ी पूछताछ की गई। जिसके दौरान यह तथ्य प्रकाश में आया। आरोपियों ने जुर्म कबूल किया है। विधिक कार्रवाई के साथ सक्षम न्यायालय में पेश किया गया। जहां से न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.