The news is by your side.

फेसबुक पर मशीन बेचने के बहाने बनाया बंधक, मांगी फिरौती

  • पुलिस ने अपहृत जुनैद व हासिम को बदमाशों के चंगुल से कराया मुक्त

  • 10 लाख की फिरौती मांग रहे थे बदमाश, तीन गिरफ्तार

अयोध्या। सोशल मीडिया फेसबुक पर दोना-पत्तल बनाने की मशीन बेचने का विज्ञापन वायरल हुआ विज्ञापन को देखकर अयोध्या जनपद के थाना रौनाही के ग्राम इब्राहिमपुर दिवली निवासी जुनैद अहमद पुत्र रफीक व हासिम खान पुत्र स्व. अब्दुल मजीद खान ने मशीन के लिए विज्ञापन में अंकित फोन पर सम्पर्क किया उन्हें मशीन के लिए पश्चिम बंगाल के गीतांजलि होटल में आने को कहा गया। जुनैद व हासिम जब बताये गये होटल पहुंचे तो मशीन बेचने का नाटक करने वालों ने उन्हें बंधक बना लिया और 10 लाख रूपये की फिरौती की मांग की। घर से सम्पर्क टूट जाने के बाद परिवारीजनों ने इस सम्बन्ध में थाना रौनाही में प्राथमिकी दर्ज कराया। दर्ज रिर्पोट के आधार पर रौनाही थाना के उप निरीक्षक राजेन्द्र प्रसाद यादव के नेतृत्व में पुलिस दल मालदा पहुंचा जहां उसने बंधक बनाये गये जुनैद व हासिम को बदमाशों के चंगुल से मुक्त ही नहीं कराया वरन तीन अरोपियों को गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस लाइन सभागार में मामले का खुलासा करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेन्द्र कुमार ने बताया कि रौनाही थाना मे 18 नवम्बर को मुकदमा अपराध संख्या 429/18 आईपीसी की धारा 364 ए के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस दल पश्चिम बंगाल के जनपद मालदा रवाना हुआ और वहां पहुंचकर सर्विलांस की मदद व हिकमत अमली से तीनो अभियुक्तों को धर दबोचा और बंधक बनाये गये जुनैद व हासिम को आजाद कराया। उन्होंने बताया कि बंधक बनाकर फिरौती मांगने वाले गिरफ्तार अभियुक्तों में सालिक शेख पुत्र स्व. आबिद अली, चांदू शेख पुत्र स्व. नेमू शेख निवासीगण चरबाबूपुर थाना कलिया चक जनपद मालदा टाउन और मो. अब्दुल हन्नान पुत्र स्व. शौकत अली निवासी जोतेपुरम बैंक पारा थाना कलिया चक को गीतांजलि होटल मालदा से गिरफ्तार करके फैजाबाद लाया गया। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किये गये तीनों अभियुक्तों को सीजेएम मालदा के समक्ष प्रस्तुत कर 28 नवम्बर तक ट्रांजिट रिमांड पर लिया गया है। इस सम्बन्ध में मु.अ.सं. 429/18 आईपीसी की धारा 364 ए के तहत स्थानीय थाना से जेल भेजा जा रहा है। अभियुक्तों को गिरफ्तार करने वाले पुलिस दल को 10 हजार रूपये इनाम देने की घोषणा की गयी है।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.