The news is by your side.

परजीवी पर नियंत्रण से बढ़ सकता है दुग्ध उत्पादन : डा. बिजेंद्र सिंह

-परजीवी रोगों के निदान और नियंत्रण में हालिया प्रगति विषय पर दो दिवसीय राज्यस्तरीय प्रशिक्षण का शुभारंभ, पूर्वांचल के 25 चिकित्सकों ने लिया हिस्सा

मिल्कीपुर। आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सा महाविद्यालय में सोमवार को परजीवी रोगों के निदान और नियंत्रण में हालिया प्रगति विषय पर दो दिवसीय राज्यस्तरीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। पशु चिकित्सकों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन परजीवी विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित किया गया। पूर्वांचल के 25 चिकित्सकों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया। कार्यक्रम को बतौर मुख्यअतिथि संबोधित करते हुए कुलपति डा. बिजेंद्र सिंह ने कहा कि परजीवी पर नियंत्रण करके दुग्ध उत्पादन की क्षमता को बढ़ाया जा सकता है और पशुपालक अपनी आय को दोगुनी कर सकते हैं।

Advertisements

उन्होंने कहा कि पशुओं की रक्त जांच के लिए आधुनिक उपकरण महाविद्यालय के लैब में मौजूद है। सही समय पर जांच करके पशुओं को किसी भी प्रकार की बीमारी या होने वाले खतरे से बचाया जा सकता है। पशुओं को बीमारी से बचाव के लिए सही समय पर उपचार जरूरी है। प्रमुख वैज्ञानिक डा. रजत गर्ग ने बताया कि यकृत कृमि (लीवर फ्लूक) गाय, भैंस, भेंड़ बकरियों में होता है। इस बीमारी में पशुओं में भूख लगना कम हो जाता है। पशुओं में कब्जियत-दस्त व घेंघा फूलने लगता है। इसके उपचार के लिए ऑक्सीक्लोजाननाइड 10 से 15 मिग्रा, प्रति किग्रा वाले पशुओं को दिया जाता है। इसी प्रकार चेरा रोग, कृमि रोग, हुक कृमि, थेलेरियोसिस, बेबेसियोसिस तथा खाज या स्कैबीज आदि परजीवी रोग होते हैं। इन बीमारियों का उचित समय पर इलाज बहुत जरूरी है। इसी क्रम में प्रमुख वैज्ञानिक डा. हीराराम व डा. राजेंद्र कुमार ने नवीनतम तकनीकियों के विषय में जानकारी दी। कार्यक्रम के मुख्य आयोजन सचिव डा. अमित कुमार सिंह रहे। कार्यक्रम का संचालन डा. वीके पाल व धन्यवाद ज्ञापन डा. आरपी दिवाकर ने किया। इस मौके पर डा. जसवंत सिंह, डा. पीएस प्रमाणिक, डा. ए.के गंगवार, डा. आरके जोशी, डा. डी.नियोगी सहित अन्य छात्र-छात्राएं मौके पर मौजूद रहे।

इसे भी पढ़े  एक्सप्रेस-वे के आस-पास की भूमि को चिन्हित कराकर एमएसएमई पार्क स्थापित किये जाने पर जोर दिया जाए : राकेश सचान

 

Advertisements

Comments are closed.