स्वतंत्रता सेनानी मदन गोपाल वैद्य की मनी पुण्यतिथि

सेनानी वंशजों ने अर्पित की श्रद्धांजलि

अयोध्या । स्थानीय कचेहरी स्थित स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी भवन में जनपद के प्रख्यात स्वतन्त्रता सेनानी एवं पूर्व विधायक मदन गोपाल वैद्य को उनके पुण्यतिथि पर श्रद्धाजंलि सभा आयोजित करके उन्हें भावभीनी श्रद्धाजंलि अर्पित की गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए अधिवक्ता संघ जनपद अयोध्या के अध्यक्ष अरविन्द सिंह ने कहा कि देश के अमर बलिदानियों तथा देश पर मर मिटने वालों के त्याग व बलिदान को देश भुला नहीं सकता। वरिष्ठ भाजपा नेता केशव बिगुलर ने कहा कि आजादी के सिपाहियों का सम्मान करना हम सब का नैतिक कर्तव्य है। पूर्व विधायक हुबराज ने कहा कि आजादी के इन दीवानों के दिखाये मार्ग पर चलकर ही हम उन्हें सच्ची श्रृद्धाजलि दे सकते हैं। उक्त अवसर पर कार्यक्रम का संचालन करते हुए सेनानी परिषद के सचिव मनोज मेहरोत्रा एडवोकेट ने कहा कि बाबू मदन गोपाल वैद्य जनपद के स्वतंत्रता आन्दोलन के अग्रणी नेता थे। जिन्होंने बाबू रमानाथ मेहरोत्रा, महावीर प्रसाद गुप्त बिगुलर, बलभद्र प्रसाद गुप्ता, सर्वजीत लाल वर्मा एवं उमेश चन्द्र पाण्डेय सरीखे सेनानियों के साथ आजादी के आन्दोलनों में अग्रणी भूमिका निभाई।
कार्यक्रम के प्रारम्भ में अधिवक्ता संघ जनपद अयोध्या के अध्यक्ष द्वारा अमर सेनानी के चित्र पर माल्यार्पण एवं उनके समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके शुभ आरम्भ किया गया। उक्त अवसर पर सेनानी भवन में तमाम बुद्धिजीवी, पत्रकारगण, अधिवक्तागण तथा सेनानी के परिजन उपस्थित रहें, और उन्होंने अपनी-अपनी श्रद्धाजंलि सेनानी को अर्पित की। श्रद्धाजंलि देने वालो में सेनानी के पुत्र अचल बिहारी गुप्ता एडवोकेट तथा अजय वर्मा एडवोकेट, राकेश वैद एडवोकेट, भाजपा नेता बब्लू मिश्रा, अश्वनी सिंह ‘‘मधुर’’, वीरेन्द्र मौर्य एडवोकेट, सूर्य नारायण सिंह एडवोकेट, विश्वनाथ तिवारी एडवोकेट, ध्रुवजीत वर्मा एडवोकेट, मनोज सिंह, सुनील सिंह, मो0 अहसान, बलिकरन निषाद, सहजराम यादव, दूधनाथ यादव, सैय्यद साहब आलम, शशीधर पाण्डेय, रणधीर सिंह, तरूण गुप्ता, शावेज जाफरी आदि गणमान्य व्यक्ति रहें। कार्यक्रम के अन्त में सेनानी पुत्र अचल बिहारी गुप्ता ने बाबू मदन गोपाल वैद्य को अपनी श्रद्धाजंलि अर्पित करते हुए कार्यक्रम के समापन की घोषणा की।

इसे भी पढ़े  किसानों का शोषण करने की खुली छूट देता है नया कृषि कानून : सभाजीत सिंह

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More