The news is by your side.

दूध व गंगा जल से हुआ भोलेनाथ का जलाभिषेक

-महर्षि बामदेव की तपोस्थली पर 108 परिवारों ने सामूहिक रूप से किया रूद्राभिषेक

मिल्कीपुर। महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर कुमारगंज क्षेत्र के महर्षि बामदेव की तपोस्थली पर शिव भक्तों का ताता लगा रहा, सुबह 4 बजे से शुरू हुआ जलाभिषेक शाम 4ः00 बजे तक जारी रहा। मंदिर प्रबंधन एवं महर्षि बामदेव श्रृंगार सेवा समिति ने क्षेत्र के 108 परिवारों का पार्थिव शिवलिंग बनवाकर सामूहिक रुद्राभिषेक करवाया। रुद्राभिषेक करने वाले परिवारों में आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या के निदेशक प्रसार डा एपी राव,डां जशवन्त सिहं, डॉ आर के जोशी डॉ, आरके पाठक, शैलेंद्र कुमार पांडे, डॉ जेपी सिंह आदि प्रमुख रूप से रहे।

Advertisements

कुमारगंज हनुमान गढ़ी से शिव बारात निकाली गई जो शिवनाथपुर होते हुए महार्षि वामदेव शाम 6 बजे पहुंची तथा रात्रि में शिव लीला का मंचन भी कलाकारों द्वारा किया गया। मंदिर प्रबंधन में मनीष गुप्ता,विजय उपाध्याय,बैजनाथ बैश्य,पंण्डित जय कुमार पाण्डेय,बाबा शिव रामदास,सुशील कुमार गुप्ता, कवि अरूण कुमार द्विवेदी, बब्लू सिहं, राजेश कुमार ग्राम प्रधान धमथुआ आदि प्रमुख रूप से रहे। मंदिर में सामूहिक रुद्राभिषेक किया।महर्षि बामदेव की तपोस्थली से ही बवां ग्राम पंचायत बनाया गया जो आज नगर पंचायत कुमारगंज के रूप में हो गया है।

अयोध्या जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर रायबरेली रोड पर कस्बा कुमारगंज से मात्र 3 किलोमीटर पश्चिम ओर पर महर्षि बामदेव की तपोस्थली है कहते हैं कि महर्षि बामदेव का जिक्र शिव पुराणों समेत अनेक पुराणों में मिलता है। यह भी मानना है कि यहां पर भगवान श्री रामचंद्र पठन-पाठन के लिए आए हुए थे और यहां पर उन्होंने शिक्षा दीक्षा ली थी। यहां हर सोमवार को शिवभक्त बड़ी संख्या में आते रहते हैं। मंदिर के महंत शिवराम दास ने बताया कि अयोध्या जनपद समेत अमेठी सुल्तानपुर बाराबंकी से भी शिव भक्त यहां पर आते हैं और उनकी हर मनोकामना पूर्ण होती है।

इसे भी पढ़े  सोशल मीडिया सहित अन्य प्लेटफार्म क्लाउड कंप्यूटिंग स्टोरेज से संचालित : गौरव सक्सेना

 

Advertisements

Comments are closed.