The news is by your side.

‘‘गोल पे बोल’’ अभियान के तहत एनएसएस छात्राओं से संवाद

अयोध्या। अवध पीपुल्स फोरम और भारतीय प्रतिष्ठान ने संयुक्त रूप से सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) के विषय में युवाओं के साथ जागरूकता अभियान “गोल पे बोल” अभियान के तहत सरस्वती विद्या मंदिर, रानोपाली में चल रहे का.सु. साकेत महाविद्यालय के एनएसएस की छात्राओं के कैंप में संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया गया । संवाद कार्यक्रम की शुरुवात एनएसएस लक्ष्य गीत “उठे समाज के लिए, उठे उठे, जगे स्वराष्ट्र के लिए जगे जगे, स्वयं सजेव वसुंधरा सवार दे।“ महाविद्यालय की एनएसएस प्रोग्राम आफिसर डॉ. मंजूषा मिश्रा ने कहा कि युवाओं में बहुत अधिक विश्वास होना चाहिए। अपने कौशल और शिक्षा को इतना बेहतर करे कि कालेज से निकालने के बाद खुद के लिए अच्छा भविष्य बनाने के साथ वो जिस परिवेश में रहती है। उसको बेहतर और सभी के लिए सहज बनाने का प्रयास कर सके। आप लोग सतत विकास लक्ष्यों को समझे, इस विषय पर पढ़े-लिखे। जिससे कि समय रहते लक्ष्यों तक पहुँचा जा सके। अभियान से जुड़े सौरभ दुबे ने बताया कि सतत विकास लक्ष्य के सभी 17 गोलों में शून्य गरीबी, शून्य भुखमरी, उत्तम स्वास्थ्य और खुशहाली, गुणवत्तापूर्वक शिक्षा,लैंगिक समानता, स्वच्छ जल और स्वच्छता, सस्ती एवं प्रदूषण-मुक्त ऊर्जा, उत्कृष्ट कार्य और आर्थिक विकास, उधोग, नवाचार और बुनियादी सुविधाएं, असमानताओं में कमी, संवहनीय शहर और समुदाय, संवहनीय उपभोग और उत्पादन, जलवायु कार्यवाही, जलीय जीवों की सुरक्षा, थलीय जीवों की सुरक्षा, शांति, न्याय और सशक्त संस्थाएं और लक्ष्य हेतु भागेदारी पर विस्तार से चर्चा की जायेगी। जिससे की सतत विकास लक्ष्य के संबंध में युवाओं को जानकारी हो। वो इस विषय में आपसी विमर्श करते हुए राष्ट्रीय विकास में अपना पूरा योगदान कर सके। अभियान के संयोजन समिति के सदस्य दीपक कुमार ने बताया कि फोरम शिक्षा, स्वास्थ्य, युवा विकास, जेंडर समानता, जीवन कला कौशल, आजीविका एवं शांति-न्याय विषय पर काम कर रहा है। कालेज कैंपस, समुदाय एवं अन्य साझे जुड़ाव के स्थानों पर भी ये अभियान गोल पे बोल पहुच रहा है। जिससे समय रहते गोल पर सही से काम शुरू हो। समाज के सभी वर्गों को मुख्य धारा में आने का अवसर मिले। समाज के अंतिम व्यक्ति को भी इन लक्ष्य के साथ जोड़ने का जो सपना है। वो हर संभव पूरा किया जा सके। इसके लिए और अधिक युवाओं को इस लक्ष्यों के विषय में काम करने की ज़रूरत है। इस कार्यक्रम में महाविद्यालय के शिक्षिका डॉ. रीना पाठक, डॉ. सरला शुक्ला, अभियान से जुड़े साथी आफाक उल्लाह, आशीष कुमार शामिल होकर युवाओं के साथ संवाद प्रक्रिया में शामिल हुए। कार्यक्रम के अंत में सतत विकास लक्ष्य के 17गोल के लोगो (चिन्ह) के साथ विद्यार्थियों एवं शिक्षकों ने चैन बनाते हुए मंच पर उसका प्रदर्शन किया। साथ ही इस अभियान एवं सतत विकास लक्ष्यों पर आगे जुडने के लिए समर्थन स्वरूप हस्ताक्षर किए।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.