The news is by your side.

अवध विवि के आईईटी में कल्पना चावला स्मार्ट सभागार का हुआ उद्घाटन

अवध विवि आईईटी संस्थान को मिला 111 सीट क्षमता का सभागार

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविधालय के प्रौद्योगिकी एंव तकनीकी संस्थान में एक सौ ग्यारह सीट की क्षमता वाले कल्पना चावला स्मार्ट सभागार का उद्घाटन विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित एवं मुख्य अतिथि पूर्व कुलपति दिल्ली तकनीकी विश्वविद्यालय के प्रो. प्रीतम बाबू शर्मा की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ।
कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित की अध्यक्षता में टीईक्यूआईपी- 3 वर्ल्ड बैंक की 14 करोड़ की चल रही परियोजना के सुचारु संचालन हेतु ”बोर्ड ऑफ गवर्नेन्स“ की मीटिंग सम्पन्न हुई। जिसके चेयरमैन आचार्य प्रीतम बाबू शर्मा वर्तमान कुलपति अमेटी विश्वविद्यालय की उपस्थिति में सदस्यगण आचार्य ओंकार सिंह यूजीसी द्वारा नामित सदस्य एवं विश्वविद्यालय द्वारा नामित सदस्य प्रो. जसवंत सिंह पदेन सदस्य निदेशक, प्रो. रमापति मिश्रा औद्योगिक विशेषज्ञ के रुप में, यश पेपर मिल के कार्यकारी निदेशक वेद कृष्णा, मेंटर संस्थान डॉ. अम्बेडकर इन्स्टीट््यूट से प्रो. महालिंगा, वी.मंडी विशेष आमंत्रित सदस्य, डॉ. अनिल कुमार एस.पी.ए तथा सदस्य डॉ. प्रियंका श्रीवास्तव एवं डॉ. सुधीर श्रीवास्तव के उपस्थिति में बैठक सम्पन्न हुई। इस बैठक में कुल 23 महत्वपूर्ण एजेंडे पर विमर्श हुआ जिसमें कुछ महत्वपूर्ण बदलाव टीईक्यूआईपी-3 प्रोजेक्ट के आवश्यक एंव सुचारु संचालन हेतु किया गया। इं. पारितोष त्रिपाठी को टीईक्यूआईपी एण्ड 3 का को-आर्डिनेटर एंव इं. परिमल तिवारी को डिप्टी को-आर्डिनेटर नियुक्त किया गया। नोडल आफिसर एकेडमी का कार्यभार डॉ. प्रियंका श्रीवास्तव एवं इं. नीतेश दीक्षित नोडल ऑफिसर फाइनेन्स का कार्यभार तथा इं. चन्दन अरोड़ा नोडल ऑफिसर प्रोक्यूपमेंट का दायित्व बी.ओ.जी द्वारा दिया गया। बैठक में चेयरमैन प्रो. पी.बी. शर्मा जी ने कहा की जिस तरह से कुलपति ने विश्वविध्द्यालय को वैश्विक पहचान दिलायी है। निदेशक प्रो. रमापति मिश्रा के नेतृत्व में इंजीनियरिंग कॉलेज को यू.पी के अग्रणी संस्थान में पहुॅचना है। कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित ने इंजीनियरिंग संस्थान के छात्र-छात्राओं एंव शिक्षको को आश्वासन दिया कि किसी भी तरह की समस्या आई.ई.टी संस्थान के उन्ययन में बाधा नही आयेगी। प्रो0 दीक्षित ने छात्र-छात्राओं से कहा कि आज के परिवेश के साथ अपनी संस्कृति को अपनाने के साथ चलने के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर संस्थान के डॉ. सुधीर श्रीवास्तव, डॉ. मनीष सिंह, डॉ महिमा चौधरी, डॉ. वंदिता पाण्डेय, डॉ. राकेश, इं. रमेश, इं. जैनेन्द्र, इं पीयूष, इं. शोभित, इं. शाम्भवी, इं श्वेता, इं. मनीषा, इं. कृति, इं. समृध्दि, इं. आशुतोष, इं. दिलीप, इं. समरेन्द्र, इं अंकित, डॉ. ब्रजेश इं. चन्दन, डॉ. रवि प्रकाश पाण्डेय इं. उमेश आदि उपस्थित रहें।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.