The news is by your side.

प्राचीन शिक्षा पद्धति के असली पोषक है गुरुकुल : प्रो.आर.के. सिंह 

गुरूपूर्णिमा की पूर्व संध्या पर हुई अभिभावक गोष्ठी

अयोध्या। श्री गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ के विशाल सभागार में श्री गुरु पूर्णिमा की पूर्व संध्या पर अभिभावक गोष्ठी का आयोजन किया गया उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए डॉ राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पुस्तकालय विज्ञान के विभागाध्यक्ष गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ के कोषाध्यक्ष प्रोफेसर आरके सिंह ने गुरुकुल के अभिभावकों को अपनी प्राचीन शिक्षा पद्धति का असली पोषक बताया और कहां कि आप मैं अपने 8 वर्ष के बच्चे को अपनी प्राचीन से जब शिक्षा पद्धति के ज्ञान के लिए 7 वर्ष गुरुकुल पढ़ने भेजा है जब आज दुनिया अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के पीछे अंधी दौड़ लगा रहा ऐसे में आप धन्यवाद के पात्र हैं

Advertisements

आपने अपनी पौराणिक व्यवस्था का चयन किया कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती के  चित्र के समक्ष अभिभावक प्रतिनिधि के रूप में उपस्थित प्रतापगढ़ से आए हरि नारायण मिश्रा ने किया गुरुकुल के बच्चों ने सरस्वती वंदना एवं स्वागत गीत प्रस्तुत किया द्वितीय सत्र एवं समापन सत्र में अभिभावकों के तमाम शंकाओं का समाधान करते हुए गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ के निदेशक भारतीय शिक्षण मंडल के अखिल भारतीय शैक्षिक प्रकोष्ठ के प्रमुख डॉ दिलीप सिंह ने अभिभावकों को विश्वास दिलाया कि समाज के सहयोग से चलने वाले गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ में सभी बच्चों को अच्छी सुविधाएं, शुद्ध भोजन, वस्त्र की व्यवस्था की जा रही है

अपने अल्प समय में गुरुकुल ने तमाम कीर्तिमान स्थापित किए हैं इसी क्रम में गुरुकुल के 3 बच्चे राजस्थान सरकार द्वारा आयोजित वैदिक गणित ओलंपियाड में भाग लेने राजस्थान जा रहे हैं इसके पूर्व कर्नाटक में ज्योतिष एवं न्याय शास्त्र ता दिन करने के लिए पांच ब्रह्मचारी गत वर्ष भेजे जा चुके हैं वैदिक गणित का बेहतर अध्ययन हो उसके लिए शीघ्र ही गुरुकुल के 10 विद्यार्थियों को अहमदाबाद गुरुकुल भेजा जाएगा चारों वेदों के अध्ययन की व्यवस्था अति शीघ्र गुरुकुल में प्रारंभ होगी, अभी अथर्व वेद और यजुर्वेद सहित सभी सामान्य विषय की शिक्षा गुरुकुल में दी जा रही है, स्थान ना होने के कारण बड़ी संख्या में प्रतीक्षा सूची बच्चों की है,

इसे भी पढ़े  पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की मनी 33वीं पुण्यतिथि

जल्दी ही गुरुकुल अपने नवीन भवन में पहुंच जाएगा, अतिथियों का परिचय गुरुकुल के वरिष्ठ आचार्य सदाशिव तिवारी, एवं गुरुकुल शिक्षा क्यों विषय पर आचार्य नीरज कुमार ओझा ने अपने विचार रखे कार्यक्रम का संचालन सभा समिति के प्रधान मंत्री आदित्य ब्रह्मचारी स्वागत आदर्श ब्रह्मचारी,  प्रणव ब्रह्मचारी, सत्यम ब्रह्मचारी ,ने एवं आंतरिक व्यवस्था का संचालन मंत्री रोहित ब्रह्मचारी, शशांक ब्रह्मचारी, भावेश ब्रह्मचारी, सौरव ब्रह्मचारी, द्वारा की गई अभिभावक सम्मेलन में  माताओं ने भी हिस्सा लिया धन्यवाद ज्ञापन सदाशिव तिवारी द्वारा किया गया।

 

Advertisements

Comments are closed.