The news is by your side.

गरीब, असहाय व लावारिस लोगों के लिए वरदान बना निःशुल्क लकड़ी बैंक

-महामारी के समय मानव सेवा समाज की सबसे बड़ी आवश्यकता : ऋषिकेश उपाध्याय

अयोध्या। रामाय सेवा ट्रस्ट अयोध्या मुख्य ट्रस्टी नगर निगम अयोध्या के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय के द्वारा श्मशान घाट अयोध्या में निशुल्क लकड़ी बैंक जरूरतमंदों गरीबों असहाय तथा लावारिस लोगों के अंतिम संस्कार के लिए वरदान के रूप में सेवा कर रहा है बेमिसाल मानवीय कार्य मानवीय संवेदना उनको प्रेरित कर रहा है और दानदाता भी सहयोग के लिए आगे आ रहे हैं कोरोना महामारी कि इस विपदा के समय जनपद अयोध्या गोंडा बस्ती लखनऊ सहित विभिन्न जनपदों के लोगों का दाह संस्कार निशुल्क लकड़ी बैंक से लकड़ी की उपलब्धता सुनिश्चित करा कर दाह संस्कार कराया जाना सुनिश्चित किया जा रहा है।

Advertisements

यही नहीं ऐसी स्थितियां भी उत्पन्न होती हैं की मृतक को जब कंधा देने वालों की संख्या नहीं होती है लकड़ी बैंक के संचालक समाजसेवी रितेश दास अपने साथियों के साथ कंधा भी देते हैं चिता भी लगाते हैं और चिता में लाश को रखकर दाह संस्कार सुनिश्चित कराते हैं महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने कहा कि इस महामारी के समय मानव सेवा समाज की सबसे बड़ी आवश्यकता है ऐसे समय में हम सभी को मिलकर समाज को जागरूक कर कोरोना महामारी से लड़ने के लिए समाज को मानसिक रूप से मजबूत करना है जिससे भयमुक्त होकर हम सब एक दूसरे के सहयोग के लिए खड़े हो सके श्री राम वल्लभा कुंज के अधिकारी अयोध्या कुलभूषण स्वामी श्री राजकुमार दास ने कहा कि इस महामारी में समाज संवेदनशीलता के साथ जरूरतमंदों की मदद हेतु आगे आएं उन्होंने कहा की श्री राम वल्लभा कुंज की तरफ से एक ट्रक लकड़ी निशुल्क लकड़ी बैंक में उपलब्ध कराई जाएगी शमशान घाट में जरूरतमंदों गरीबों असहाय लावारिस लोगों के अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी की कमी होने नहीं दी जाएगी श्री दास ने कहा की समाज हम सब मिलकर इस कोरोना महामारी से प्रभावित लोगों को मदद करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे निशुल्क लकड़ी बैंक के संचालक प्रमुख समाज सेवी रितेश दास ने बताया कि अब तक 100 से अधिक लाशों के अंतिम संस्कार के लिए निशुल्क लकड़ी बैंक से लकड़ी उपलब्ध कराकर कंधा देकर चिता लगाकर अंतिम संस्कार कराया गया है।

इसे भी पढ़े  ईवीएम मशीनों के कमीशनिंग कार्यों का डीएम ने किया निरीक्षण

रितेश दास ने कहा एक ऐसी घटना 5 अप्रैल को श्मशान घाट पर देखने को मिली जिस जिसमें हम अपने आंसू नहीं रोक पाए अरुण कुमार नामक व्यक्ति अपनी पत्नी बेबी देवी 4 साल की बच्ची के साथ हरिद्वार से गया जा रहे थे ट्रेन लखनऊ से 10 किलोमीटर चली होगी कि अरुण कुमार की हृदय गति रुकने से मृत्यु हो गई फैजाबाद रेलवे स्टेशन में लाश उतारी गई पोस्टमार्टम हुआ और फरिश्ता बनकर श्मशान घाट के श्री रामाय सेवा ट्रस्ट के कार्यकर्ता कंधा देकर चिता लगाकर अंतिम संस्कार कराया श्री दास ने बताया की तीन बेटियां हैं सबसे छोटी बच्ची साथ में थी उसी ने अपने पिता के अंतिम संस्कार में मुखाग्नि दी यह परिवार ग्राम रामपुर पोस्ट फखरपुर थाना अरवल जिला अरवल बिहार के रहने वाले हैं इसी तरह अन्य तमाम दृश्य श्मशान घाट में देखने को मिल रहे हैं जिससे आत्मा द्रवित होती है और जरूरतमंदों की मदद के लिए उत्साह से मदद करने की परमात्मा से शक्ति मिलती है।

श्री दास ने कहा कि शमशान घाट अयोध्या में जो भी जरूरतमंद गरीब और लावारिस लाश आ रहे हैं उनके अंतिम संस्कार की समस्त व्यवस्था श्री रामायसेवा ट्रस्ट के द्वारा उनके कार्यकर्ताओं के सहयोग से की जा रही है अयोध्या धार्मिक नगरी है प्रभु राम की धरती है हम आवाहन करते हैं समाज को इस कोरोना की महामारी में हम सब आगे आएं और मानवता को बचाएं जरूरतमंदों की मदद करें।

Advertisements

Comments are closed.