in

आर्थिक सम्पन्नता के लिए करें मछली पालन : अनुज कुमार झा

नीली क्रांति योजना के तहत स्टेयरिंग कमेटी की हुई बैठक

अयोध्या। कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी अनुज कुमार झा की अध्यक्षता में ब्लू रिवोल्यूशन एवं मैनेजमेंट आफ फिशरीज ‘‘नीली क्रांति योजना‘‘ के अन्तर्गत जिला स्तरीय स्टेयरिंग कमेटी की बैठक हुई। बैठक में नीली क्रांति योजना के जनपदीय कार्ययोजना की समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा मतस्य पालन की पूर्ण क्षमता का उपयोग करने, किसान की आय को दोगुना करने, जैव सुरक्षा एवं पर्यावरण समपोषणता को बनाये रखते हुए मतस्य पालन विकास करने, ई कामर्स तथा अन्य प्रोद्ययोगिकियो ओर वैश्विक सर्वश्रेष्ठ नवोन्मेषो को शामिल करते हुए उत्पादकता बढ़ाने और फसलोत्तर बुनियादी सुविधाओ के वेहतर विपणन पर ध्यान केन्द्रित करने तथा देश की खाद्य ओर पोषण संबंधी सुरक्षा में वृद्धि करने के उद्देश्य से ‘‘नीली क्रांति योजना‘‘ चलाई गई है।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी धर्मराज यादव ने अवगत कराया कि प्रत्येक परियोजना की निश्चित धनराशि पर नीली क्रांति योजना में सामान्य जाति को 40 प्रतिशत तथा महिला एवं अनुसूचित जाति/जनजाति को 60 प्रतिशत अनुदान देय है। इस योजना के अन्तगर्त निजी भूमि पर तालाब निर्माण हेतु 07 लाख/हे0, तालाब सुधार हेतु रूपये 3.50 लाख/हे0, फिश सीड रियारिंग यूनिट हेतु 06 लाख/हे0, निर्मित/सुधारे गये तालाबो पर प्रथम वर्ष में निवेश हेतु 1.50 लाख/हे0, लघु फिश फीड मिल की स्थापना हेतु 10 लाख/यू0, फिश सीड हैचरी की स्थापना हेतु 25 लाख/ यूनिट, आरएएस की स्थापना हेतु 50 लाख/यू0 मछूआ आवास हेतु 1.20 लाख/आ0 तथा सोलर पावर एक्वाकल्चर हेतु 15 लाख/यू0 निर्धारित है। मुख्य कार्यकारी अधिकारी द्वारा कार्ययोजना के बारे में बताते हुए कहा कि वर्ष 2017-18 में तालाब सुधार एवं निवेश हेतु चार हेक्टेयर का लक्ष्य निर्धारित था जिसके सापेक्ष वर्ष 2018-19 में 2.75 हे0 पर रू0 5.50 लाख अनुदान राशि प्राप्त हुआ, यह परियोजना पूर्ण हो चुकी है। रियारिंग फिश पॉड के निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष एक इकाई की अनुदान धनराशि 2.40 लाख की परियोजना भी पूर्ण हो चुकी है। एक हैचरी की परियोजना प्रगति पर है जिसके हेतु प्राप्त 10 लाख रूपये अनुदान राशि प्राप्त हुई है। जिलाधिकारी ने उक्त परियोजनाओ को अन्य किसी विभाग के अधिकारियो से चेक कराने के निर्देश दिये। उन्होंने जनपद में थाई मंगुर, बिग्रेड मछली पालन एवं विक्रय पर रोक लगाने हेतु मुख्य कार्यकारी अधिकारी को गहन निरीक्षण अभियान चलाने के निर्देश दिये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक आनन्द, जिला पंचायत राज अधिकारी एसपी सिंह, जिला कृषि अधिकारी, जिला अग्रणी बैंक अधिकारी, मत्स्य निरीक्षक रेवती रमण चौधरी आदि उपस्थित थे।

What do you think?

Written by Next Khabar Team

माध्यमिक शिक्षकों ने शिक्षा भवन पर दिया धरना

पर्यावरण सुरक्षित रखना सभी का कर्तव्य : अंजली ज्ञाप्रटे