The news is by your side.

अयोध्या को सुंदरतम नगरी बनाने के लिए हुआ विचार विमर्श

-विकास कार्यों के पर्यवेक्षण एवं सर्वेक्षण के लिए लगाये गये अधिकारियों व कार्यदायी संस्थाओं के साथ मण्डलायुक्त ने की बैठक

अयोध्या। अयोध्या को एक विश्वस्तरीय पर्यटन नगरी के रूप में विकसित करने एवं सुनियोजित विकास के लिए मण्डलायुक्त अध्यक्ष अयोध्या विकास प्राधिकरण गौरव दयाल ने विकास कार्यों के पर्यवेक्षण एवं सर्वेक्षण के लिए लगाये गये अधिकारियों एवं कार्यदायी संस्थाओं के साथ अयोध्या विकास प्राधिकरण के सभागार में समीक्षा बैठक आहूत की गई । सर्वप्रथम मंडलायुक्त ने निर्माणाधीन विभिन्न पथों यथा जन्मभूमि पथ, भक्ति पथ, रामपथ, धर्मपथ सहित बन रहे अन्य कोरिडोर को आकर्षक एवम मनमोहक बनाने के दृष्टिगत गहन विचार विमर्श किया गया जिसमे निर्माणधीन जन्म भूमि पथ में एक निश्चित ऊँचाई की रिटेनिंग वाल बना कर उसमें विदेशो की रामलीला की थीम को भित्ति चित्र के माद्यम से उकेरे जाने तथा धर्म पथ पर सभी राज्यो के ललित कला अकादमी के माद्यम से भगवान राम से सम्बंधित कृतियों को उकेरे जाने व निर्माणधीन रामपथ के सौंदर्यीकरण आदि पर चर्चा की गई ।

Advertisements

बैठक में यतीन्द्र मोहन मिश्र द्वारा भी अयोध्या को सुंदरतम नगरी बनाने हेतु अपने सुझाव प्रस्तुत किये गए। मंडलायुक्त ने स्मार्ट प्लांटेशन की डीपीआर तत्काल बनाने के लिए उपनिदेशक उद्यान को निर्देश दिया तथा कहा कि तुलसी उद्यान, राजघाट, कम्पनी गार्डेन सहित सभी पार्को में मौसम आधारित फूल के पौधों के साथ सदाबहार फूलों वाले प्लांटेशन कराये। उन्होंने कहा कि अयोध्या विकास प्राधिकरण के सभी इंजीनियर रामपथ के किनारे स्थित सभी भू स्वामियों को प्रेरित कर प्राधिकरण द्वारा जारी फसाड डिजाइनिंग का शतप्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित कराये। उन्होंने कहा कि भविष्य में बड़ी संख्या में अयोध्या दर्शन हेतु पूरे भारत एवं विदेशों से श्रद्वालु व पर्यटक दर्शन करने के लिए आयेंगे।

इसे भी पढ़े  डॉ. अम्बेडकर का व्यक्तित्व अत्यंत विराट व बहु-आयामी : प्रो. मनोज अग्रवाल

उनके गाड़ियों की पार्किंग के लिए हर रूट पर स्थायी एवं अस्थायी पार्किंग स्थल जो मास्टरप्लान में चिन्हित है उन स्थानो के भू स्वामियों से सहमति तत्काल प्राप्त करे ताकि भविष्य में पार्किंग की कोई समस्या उत्पन्न हो तो ऐसी भूमि को मल्टीस्टोरी पार्किंग के रूप में विकसित किया जा सकें। बैठक में बताया गया कि मठ मंदिरों के अपग्रेडेशन का डीपीआर शासन को भेज दिया गया है। अफीम कोठी के सौन्दर्यीकरण, रेलवे स्टेशन से राम पथ को जाने वाले मार्ग को न्याय पथ के रूप में विकसित करने साथ भरतकुण्ड के सौन्दर्यीकरण एवं उसके विकास का डीपीआर, गाऊघाट से राजघाट तक सरयू सुविधा संकुल बनाने का डीपीआर भी शासन को भेजा जा चुका है।

बैठक में अयोध्या शहर के सौन्दर्यीकरण, गुप्तारघाट पर बन्धा वाटर फ्रन्ट, सुग्रीव पथ, अयोध्या के प्रवेश हेतु 06 द्वारों का डीपीआर, अयोध्या विकास प्राधिकरण के नवीन आवासीय योजना का डीपीआर आदि बिन्दुओं पर समीक्षा की गयी। बैठक में बैठक में एडीएम प्रशासन श्री अमित सिंह, सचिव अयोध्या विकास प्राधिकरण श्री सत्येन्द्र सिंह, उपजिलाधिकारी सदर/जॉइंट मजिस्ट्रेट श्री विशाल कुमार, ज्वाइंट मजिस्ट्रेट श्री के0के0 सिंह, अपर नगर आयुक्त सहित कार्यदायी संस्था के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Advertisements

Comments are closed.