प्राचीन मंदिरों तोड़ना अयोध्या की पहचान मिटाना : सभाजीत सिंह

नोटिस वापस न ली गयी तो आप करेगी आन्दोलन

अयोध्या। रामनगरी अयोध्या में प्राचीन और ऐतिहासिक मंदिरों को जर्जर बताकर नगर निगम द्वारा गिराने की नोटिस दिए जाने पर आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर बोला हमला और कहां ऐतिहासिक और प्राचीन मंदिरों तोड़ना अयोध्या की पहचान मिटाना है आम आदमी पार्टी यूपी मीडिया प्रभारी सभाजीत सिंह ने सिविल लाइन स्थित एक होटल सभागार में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि जब से बीजेपी सरकार आई है एक के बाद एक धार्मिक स्थलों के मंदिरों को तोड़ने की कोशिश कर रही है उन्होंने कहा कि बनारस में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के नाम पर बड़ी संख्या में मंदिर तोड़े गए और अब अयोधया में सौ साल से लेकर पांच सौ साल तक के पुराने और ऐतिहासिक मंदिरों को तोड़ने के लिए नोटिस दी जा रही है उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी को मंदिर से मतलब नहीं है मंदिर के नाम पर सिर्फ नफरत फैलाना है और वोट लेकर सत्ता पाना है ।
मीडिया प्रभारी सभाजीत सिंह ने कहा कि आम आदमी पार्टी अयोध्या की ऐतिहासिक और प्राचीन मंदिरों को तोड़ा जाने के खिलाफ है अगर ऐसा करने की कोशिश की गई और नोटिस को वापस नहीं लिया गया तो पार्टी आंदोलन करेगी उन्होंने कहा कि अयोध्या की पूरी घटना क्रम से पार्टी के यूपी प्रभारी सांसद संजय सिंह को यथा स्थिति से अवगत कराया गया है और वह बनारस में तोडे गये मंदिर मुद्दे पर धर्माचार्य और स्थानीय जनता से मिलने 16 दिसंबर को बनारस जाएंगे उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो सांसद संजय सिंह अयोध्या में चलने वाले आंदोलन में भी शामिल होंगे। प्रदेश मीडिया प्रभारी सभाजीत सिंह ने कहा कि सैकड़ों साल पुराने प्राचीन और इतिहासिक मंदिरों को जर्जर बताकर तोड़ने की नोटिस देना गलत है आम आदमी पार्टी इसका विरोध करती है और सरकार से मांग करती है यह प्राचीन मंदिरों से देश के करोड़ों लोगो की आस्था जुड़ी हैं इसलिए इसे तोड़ने के बजाय सरकार इनका जीर्णोद्धार कराए । उन्होंने कहा कि 17 दिसंबर को जिला मुख्यालय पर जिले भर के कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई गई है जिसमें इस मुद्दे पर आंदोलन की रणनीति तय की जाएगी । इस मौके पर पत्रकार वार्ता में जिला अध्यक्ष गंगा बक्स सिह, डॉ. शौकत अली शाही , गायत्री मिश्रा नदीम रजा नोमान अहमद मोहम्मद स्टाइल मोहम्मद दानिश जेपी तिवारी आदि लोग थे।

इसे भी पढ़े  एक दिन के लिए कोतवाल बनी निशा तिवारी

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More