सट्टेबाजी भी है जुआ खेलने की लत का उदाहरण: डा. आलोक

0
  • किशोरो व युवाओं में तेजी से बढ़ रही जुआखोरी कम्पल्सिव गैम्बलिंग मनोरोग

  • दीवाली प्रेरित जुआखोरी मनोवृत्ति पर हुई कार्यशाला

फैजाबाद। आपको जान कर हैरानी होगी कि जुआखोरी भी एक प्रकार का मनोरोग है जिसे कम्पल्सिव गैम्बलिंग के नाम से जाना जाता है तथा इस लत से ग्रसित लोगो को कम्पल्सिव गैम्बलर कहा जाता है और यही कारण है कि ऐसे लोग जुआ खेलने के नये नये तरीके व मौके खोजते रहते है ।क्रिकेट मैच या अन्य मुद्दों विशेष पर यह लत इस कदर हावी हो जाती है कि वे लगातार अपनी नींद व भूख त्यागकर बस सट्टेबाजी रूप में जुआ खेलने में जुट जाते हैं। इतना ही नहीं ये लोग जुआखोरी जनित नशाखोरी के दुश्चक्र में भी फँसते चले जाते हैं। जिससे कि उनमें अवसाद, उन्माद, चिड़चिड़ापन, हिंसा, मारपीट व अन्य परघाती या आत्मघाती नकारात्मक कृत्य पर जा सकते हैं।दुर्भाग्यवश दीवाली पर्व से जुड़ी यह कुरीति इस पर्व विशेष पर जुआखोरों की मनोउत्प्रेरक बन रही है।
जिला चिकित्सालय के युवा व किशोर मनोपरामर्शदाता डा0आलोक मनदर्शन के अनुसार कम्पल्सिव गैम्बलिंग ओ0सी0डी0 स्पेक्ट्रम डिसआर्डर का ही एक रूप है, जिससे ग्रसित लोगों का मन ऐसे कृत्य में लिप्त होने का एक मादक खिचाव पैदा करता है और फिर बार-बार उसी कृत्य को करने के लिए बाध्य करता है भले उसे कितनी भी आर्थिक हानि हो चुकी हो। ऐसी मनः स्थिति में ब्रेन-न्यूक्लियस में डोपामिन नामक मनोरसायन की बाढ़ सी आ जाती है जिससे तीव्र मनोखिचाव पैदा होता है जिसको डोपामिन ड्रैग कहा जाता है।
डा. आलोक ने बताया कि कम्पल्सिव गैम्बलर को प्रायः यह पता नहीं होता कि वह एक मनोरोग का शिकार हो चुका है। उसको इस बात के लिए जागरूक किया जाना चाहिए। जिससे कि उसको अपनी मनोआसक्ति के प्रति अन्र्तदृष्टि का विकास इस प्रकार करने में मदद मिले कि उसका मन आसक्त न हो सके। साथ ही ऐसे गैम्बलिंग ग्रुप से पर्याप्त दूरी बनाते हुये अन्य रचनात्मक कार्यों में खुद को व्यस्त रखे। पारिवारिक भावनात्मक सहयोग व सकारात्मक माहौल का भी बहुत योगदान होता है। काग्निटिव बिहैवियर थिरैपी व इम्पल्स कन्ट्रोल थिरैपी बहुत ही कारगर है।

इसे भी पढ़े  फिल्मी कलाकारों की रामलीला के छठवें दिन बालि वध, रावण सीता संवाद और लंका दहन का हुआ मंचन

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More