सामंतवादी लोगों द्वारा पिछड़े व दलितों को किया जा रहा परेशान

सामाजिक न्याय मोर्चा के सदस्यों ने डीएम से मिलकर घटनाओं में प्रशासन द्वारा न्याय में लारवाही बरतने का लगाया आरोप

Advertisement

अयोध्या। सामाजिक न्याय मोर्चा के सदस्यों ने जिलाधिकारी अनुज झा से मिलकर जनपद में हो रही सामंतवादी घटनाओं में प्रशासन द्वारा न्याय में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। प्रतिनिधि मंडल ने आरोप लगाया कि सामंतवादी लोगों को प्रसाशनिक संरक्षण के कारण पिछड़े और दलितों को परेशान किया जा रहा है।
प्रतिनिधि मंडल द्वारा जिलाधिकारी को सौपें गए मांग पत्र में आरोप लगाया गया है कि बीकापुर कोतवाली के गाँव परोमा निवासी प्रभावती पत्नी रामू गोड को प्रधानमंत्री आवास के मकान पर दबंगों ने छत नहीं पडने दिया गया, पीड़ित महिला दर दर भटकने को मजबूर है। इसी गाँव की उमा सिंह पत्नी महेंद्र सिंह को दबंगों ने घर में घुस कर मारा पीटा और इन्हीं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करा दिया, पीड़ित का मुकदमा दर्ज नही किया गया। बाद में पीडिता का मुकदमा अपराध संख्या 519ध्19 दर्ज किया गया परंतु अभी तक अपराधियो पर कोई कार्यवाही नहीं की गई। मुकदमा दर्ज होने से नाराज सामंतों ने पीडिता के घर में घुस कर दुबारा मारा पीटा। पीड़ित परिवार सामंतों के डर से पलायन कर दिया और दर दर भटकने को मजबूर है। प्रसाशन कोई मदद नहीं कर रहा है।
ज्ञापन में आरोप लगाया गया कि थाना पूराकलंदर के गाँव सभा फिरोज पुर के दबंगों ने सामाजिक कार्यकर्ता और कुशमाहा के प्रधान नागेश्वर नाथ कोरी के खिलाफ फर्जी मुकदमा अपराध संख्या 336ध्19 गंभीर धाराओं में दर्ज कराकर जेल भेजने का षड्यंत्र रच दिया। प्रतिनिधि मंडल ने सभी मामलों में जांच कराकर पीडितो को न्याय देने की मांग किया है।
प्रतिनिधि मंडल में भाकपा नेता सूर्य कांत पाण्डेय, भाकपा माले नेता अतीक अहमद, माकपा नेता सत्य भान सिंह जनवादी, स्वतंत्र जनता राज पार्टी के नागेश्वर नाथ कोरी, पवन कुमार वर्मा, घनश्याम बेनकर, कांग्रेस नेता दिनेश सिंह, उमा सिंह, प्रभावती गोड, अशोक कुमार कोरी, इकबाल खन्ना सहित सामाजिक न्याय मोर्चा के अनेक लोग मौजूद रहे।