The news is by your side.

वैश्विक पटल पर प्रमुख पर्यटन नगरी होगी अयोध्या : विशाल सिंह

-उ0प्र0 ट्रेवल एजेन्ट एसोसिएशन ने एम0बी0ए0 (टूरिज्म) के छात्रों को रोजगार का दिया आश्वासन

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय संत कबीर सभागार में विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर एम0बी0ए0 विभाग द्वारा ‘समावेशी विकास के लिए पर्यटन’ विषय पर व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि नगर आयुक्त, अयोध्या के विशाल सिंह ने कहा कि आज के समय में व्यवस्थित पर्यटन की मॉग बढ़ी है। पर्यटन उद्योग को आगे आने के साथ इस क्षेत्र से जुडे लोगों को जोड़ने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पर्यटन में सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनीतिक और आर्थिक मूल्यों के बारे में अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय के बीच जागरूकता को बढावा देने के लिए प्रत्येक 27 सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस मनाया जाता है।

Advertisements

उन्होंने कहा कि अयोध्या अध्यात्मिक पर्यटन नगरी के रूप में विकसित हो रहा है आने वाले वर्षों में वैश्विक पटल पर प्रमुख पर्यटन नगरी होगी। इतने पर्यटक अयोध्या आने वाले हैं जिसकी आप कल्पना नही कर सकते। इन पर्यटकों को सम्भालने के लिए प्रोफेशनल लोगों की आवश्यकता होगी। मुझे विश्वास है एम0बी0ए0 विभाग पर्यटन की मॉग को पूरा करने में सक्षम है। उन्होनें अंत में कहा निगम और प्राधिकरण मिलकर अयोध्या का नया रूप देने के लिए प्रयासरत है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 रविशंकर सिंह ने अपने शुभकामना सन्देश में कहा कि पर्यटन वर्तमान में एक आवश्यकता बन गई है। कोविड की मार झेलने के बाद यह उद्योग फिर से खडा होने को तैयार है। इस उद्योग को कोई भी आपदा प्रभावित नही कर सकती। आगे उन्होनें कहा कि विश्वविद्यालय के एम0बी0ए0 विभाग द्वारा पर्यटन के छात्रों के रोजगार के लिए अथक प्रयास कर रहा है। कुलपति प्रो0 सिंह ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि अयोंघ्या आने वाले दिनों में विश्व की प्रमुख पर्यटन नगरी होगी, जिससे इस उद्योग में रोजगार की भी असीम सम्भावनाएं होगीं।

इसे भी पढ़े  अयोध्या के विभिन्न प्रमुख कॉरिडोरो को फूलों से सजाने की पहल

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि राजेन्द्र प्रसाद, उप निदेशक, उ0प्र0 पर्यटन, अयोध्या ने कहा कि अब वह समय है कि हमें अर्न्तराष्ट्रीय पर्यटन पर ही निर्भर न रह कर हमें घरेलू पर्यटन पर ध्यान देना होगा, जिससे समाकेतिक विकास होगा और वहां के स्थानीय लोगों को रोजगार भी प्राप्त होगा। अयोध्या अध्यात्मिक पर्यटन नगरी के रूप में बहुत बडा केन्द्र होने वाला है, जिससे अयोध्या के लोगो को रोजगार प्राप्त होगा। पर्यटन के छात्रों को जरूरत है कि वह अपनी पढाई केवल सैद्धांतिक न रखते हुए उद्योग के लोगों के साथ समय-समय पर प्रशिक्षण प्राप्त करते रहें जिससे आपको वर्तमान में उद्योग की मॉग के अनुरूप अपने आपको तैयार कर सकेगें। आज आपके लिए कितने सौभाग्य का विषय हैं प्रदेश के कई प्रमुख ट्रैवेल एजेण्ट आपके पास आयें हैं, इनकी बातें पर आप ध्यान दें और अपने आप को तैयार करें।

विशिष्ट अतिथि उ0प्र0 टै्रवेल एजेन्ट ऐसोसिएशन के चेयरमैन विवेक पाण्डेय ने अपने सम्बोधन में कहा कि आज विश्वविद्यालय आकर मेरा पूरा ग्रुप गौरवान्वित महसूस कर रहा है। उन्होनें कहा आज मेरे साथ विभिन्न जिलों के प्रमुख टै्रवेल एजेन्ट आये हैं आज एम0बी0ए0 (टूरिज्म) के छात्रों से मिलेगें और उनके साथ अयोध्या को नजदीक से देखेंगें। क्योंकि आने वाले वर्षों में अयोध्या पर्यटन का प्रमुख केन्द्र होगा और अधिक मात्रा में रोजगार उपलब्ध होगा। कोविड-19 ने पर्यटन पर बहुत ही प्रभाव डाला लेकिन इस पीरियड में पर्यटन उद्योग ने कई नई सम्भावनाओं पर कार्य किया और नये नये डेस्टिनेशन की तलाश की। अब पर्यटन का स्वरूप बदल गया है, जिसके लिए अत्याधिक प्रशिक्षित युवाओं की आवश्यकता भी होगी।

इसे भी पढ़े  अवध विश्वविद्यालय व सम्बद्ध महाविद्यालयों में चार जुलाई तक ग्रीष्मावकाश

उन्होंनें कहा कि टूरिज्म सेक्टर एक बेहतरीन और संभावना वाला करियर क्षेत्र है, लेकिन इसे अभी पर्याप्त लोकप्रियता मिलनी बाकी है, अभी भी बहुत से लोगों को लगता है कि टूरिज्म से संबघित कोर्स करने से टूरिस्ट गाइड बनते हैं, जबकि टूरिज्म एक बडा सेक्टर है, इसमें ग्रामीण पर्यटन से लेकर मेडिकल टूरिज्म तक कई क्षेत्र हैं बस आपको इण्डस्ट्री की मॉग के अनुरूप चलना होगा। अंत में उन्होनें एम0बी0ए0 (पर्यटन) के छात्रों को आश्वासन दिया कि जब आपको इण्डस्ट्री में प्रशिक्षण या रोजगार की जरूरत होगी मेरा ऐसोसिएशन आपको सहयोग करता रहेगा।

स्वागतीय सम्बोधन में प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह ने कहा कि 27 सितम्बर को सम्पूर्ण विश्व पर्यटन दिवस मनाता है, इस दिन को मनाने का उद्देश्य है कि पर्यटन के प्रति लोगों को जागरूक करना। इस वर्ष विश्व पर्यटन संस्थान ने घ्समावेशी विकास के लिए पर्यटनघ् थीम दिया, उस थीम पर आज व्याख्यान कराने का अवसर विभाग को प्राप्त हुआ। आज के इस व्याख्यान में आज प्रदेश के कई कोने से ट्रेवेल एजेन्ट पधारे हैं यह हमारे विभाग के एम0बी0ए0 (टूरिज्म) के छात्रों को जो भी दिशा निर्देश देगें यह उनके रोजगार प्राप्त करने के लिए बहुत ही उपयोगी होगा। प्रो0 सिंह ने कहा कि पर्यटन उद्योग से किसी एक का विकास नही होता इससे बहुविकास होता है और साथ ही साथ इस उद्योग में रोजगार की असीम संम्भावनाएं हैं। अन्त में सभी को आश्वासन दिया कि विभाग निरंतर अयोध्या में पर्यटन विकास के लिए जो भी सहयोग शासन प्रशासन को आपेक्षित होगा वह अवश्य ही किया जायेगा।

इसे भी पढ़े  मिलेट्स लोगों के स्वस्थ्य जीवन का आधार : प्रो. अशोक मित्तल

कार्यक्रम का शुभारम्भ मॉ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन करके किया गया। अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ एवं स्मृति चिन्ह भेटकर किया गया। कार्यक्रम का संचालन प्रो0 शैलेन्द्र कुमार वर्मा ने किया। धन्यवाद ज्ञापन डॉ0 महेन्द्र पाल सिंह ने किया। इस अवसर पर डॉ0 राना रोहित सिंह, डॉ० संजय चौधरी, डॉ० दिनेश सिंह, डॉ० गीतिका श्रीवास्तव, डॉ० मुकेश वर्मा, डॉ० आलोक मिश्रा, डॉ० राजेश सिंह, डॉ० शशिबाला सिंह, आशीष मिश्राए डॉ0 निमिष मिश्रा्, डॉ0 आशुतोष कुमार पाण्डेय, डॉ0 दीपा सिंह, आशीष पटेल, डॉ0 अंशुमान पाठक, डॉ0 रामजी सिंह,  अनुराग तिवारी, डॉ रामजीत सिंह, डॉ0 प्रियंका सिंह, डॉ0 अनिता मिश्रा, डॉ0 कविता श्रीवास्तव, डॉ0 विवेक उपाध्याय, श्री कपिलदेव, श्री प्रवीण राय,  जूलियस कुमार,  हर्षवर्धन, डॉ0 राकेश कुमार, डॉ0 श्रीष अस्थाना,  नवनीत श्रीवास्तव, योगेश दीक्षित, सूरज सिंह,  संजीत पाण्डेय सहित विभाग के अध्ययनरत छात्र-छात्राएॅ एवं गणमान्य उपस्थित रहे।

Advertisements

Comments are closed.