The news is by your side.

गुरुकुल विद्यापीठ में कला वीथिका का हुआ शुभारंभ

– गुरुकुल में पढ़ाई जाने वाली 64 विद्याओं में ललित कला का अपना स्थान : डॉ. दिलीप सिंह

अयोध्या। गुरु वशिष्ट गुरु विद्यापीठ में प्रारंभ हुई कला वीथिका की कक्षाएं वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हुआ उद्घाटन अयोध्या 12 अगस्त नगर के वरिष्ठ समाजसेवी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता जाने-माने वकील स्व. समर बहादुर सिंह की स्मृति में उनकी पुण्यतिथि के अवसर पर उनके पारिवारिक सदस्यों के सौजन्य से श्री गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ में कला वीथिका का शुभारंभ गुरुकुल के कोश प्रमुख एवं डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के पुस्तकालय विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर आरके सिंह द्वारा ओम स्वास्तिक की पेंटिंग बनाकर किया गया।

Advertisements

उक्त कार्यक्रम स्वर्गीय समरबहादुर सिंह की बड़ी बेटी डॉ राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के फाइन आर्ट विभाग की अतिथि प्रवक्ता सरिता सिंह के सौजन्य से आयोजित किया गया था अपने उद्बोधन में डॉक्टर सरिता सिंह ने कहा कि मेरे पिता के जीवन का उद्देश्य और एकमात्र मूल मंत्र सेवा जीवन का सर्वोत्तम प्रयास के भाव को जीवंत करते हुए गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ में कला वीथिका कक्षा का शुभारंभ किया गया है गुरुकुल के विद्यार्थियों को ललित कला से जोड़ते हुए तथा उनके भावों को अभिव्यक्ति करने के लिए कला के माध्यम को प्रयोग में लाते हुए एक नई विधा उनको सिखाने का प्रयास किया जाएगा, कक्षाओं का शुभारंभ गुरुकुल के विद्यार्थियों के वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हुआ, गुरुकुल के निदेशक डॉ दिलीप सिंह ने बताया की गुरुकुल में पढ़ाई जाने वाली 64 विद्याओं में ललित कला का अपना स्थान है, गुरुकुल में आधुनिक विषय सहित ज्योतिष शास्त्र न्याय शास्त्र, यजुर्वेद, अथर्ववेद, संस्कृत, कंप्यूटर की कक्षाओं का विधिवत संचालन हो रहा है, कला वीथिका के सहयोग के लिए राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के ललित कला विभाग का सहयोग सराहनीय है,

इसे भी पढ़े  गरीबों के कल्याण को लेकर बनेंगी और योजनाएं : अनुप्रिया पटेल

गुरु वशिष्ठ गुरुकुल विद्यापीठ के संस्थापक संरक्षक श्री राम वल्लभा कुंज के अधिकारी राजकुमार दास संस्थापक अध्यक्ष पूर्व कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित ने उक्त कक्षाओं के संचालन के लिए ललित कला के अतिथि प्रवक्ता सरिता सिंह की सराहना की और कहा कि पिता के पद चिन्हों पर बेटियों का चलना समाज को नई दिशा देगा, इस अवसर पर गुरुकुल के प्रबंधक आदर्श सिंह ऋषभ, निदेशक डॉ दिलीप सिंह, स्वर्गीय समर बहादुर सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती उषा सिंह, इंजीनियर रोहित कुमार, विशाल सिंह, श्रीमती पूजा, निधि सिंह, रुचि सिंह, सौम्या सिंह, निहारिका सिंह, और आर्याही सिंह, सहित सहित स्वर्गीय सिंह के पारिवारिक सदस्य एवं शुभचिंतक गुरुकुल परिवार से जुड़े सदस्य उपस्थित थे

Advertisements

Comments are closed.