नाराज शिक्षा प्रेरकों ने किया सांसद लल्लू सिंह का घेराव

अयोध्या। सेवा विस्तार और बकाया 30 माह का वेतन भुगतान को लेकर लगातार आठ माह से आन्दोलन कर रहे शिक्षा प्रेरकों ने आज सांसद लल्लू सिंह जी का घेराव किया । सुबह 9 बजे से ही सैकडों शिक्षा प्रेरकों ने सहादतगंज हनुमान गढ़ी पर इकट्ठा होकर अपनी रणनीति बनाई । इसके बाद सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी करते हुए पदयात्रा निकाल कर सांसद आवास को घेर लिया । शिक्षा प्रेरकों का जबरदस्त आक्रोश व प्रदर्शन देखकर सांसद जी बाहर आकर मिले और समस्या को ध्यान से सुनकर जल्द ही समाधान का आश्वासन दिया ।
जिलाध्यक्ष बृजेश कुमार सिंह ने कहा कि हम सबने पिछले सत्र में भी आपको ज्ञापन दिया था पर कई महीनों के बाद भी हमारी मांगें पूरी नहीं हुई । जिले के सभी ग्रामपंचायतों से पंद्रह सौ शिक्षा प्रेरक परिवार भाजपा सरकार के द्वारा वर्षों से आर्थिक और मानसिक रूप से पीड़ित किये जा रहे हैं । हम पुनः आपके माध्यम से अपनी मांग को मा.प्रधानमंत्री एवं मा.शिक्षामंत्री भारत सरकार तक पहुँचाने के लिए आये हैं । सांसद के नाते हम आपसे मांग करते हैं कि दिल्ली जाकर तत्काल रूप से साक्षर भारत की नयी कार्य योजना को लागू करायें और हमारा रोजगार हमें वापस दिलायें ।
जिलासंयोजक सुनील पाण्डेय ने उपस्थित शिक्षा प्रेरकों को संबोधित करते हुए कहा कि हमें अभी सांसद जी से पूरी उम्मीद है वह आज दिल्ली जा रहे हैं , संसद सदन तक हमारी बात पहुँचायेगे । यदि सत्तासीन सरकार ने हमारे साथ धोखा किया तो आने वाले 2019 के चुनाव में भाजपा के खिलाफ हर गाँवों मे विरोध को शिक्षा प्रेरक मजबूर होंगे । और हमारा सेवाविस्तार जल्द ही किया गया तो हम पूरा सहयोग भी करने को तैयार है ।
ज्ञापन देने वालों में जिलाकोषाध्यक्ष राकेश यादव , जिलासंगठनमंत्री अरविंद सिंह , धर्मेंद्र कुमार , करन सिंह , अशोक कुमार , किरण द्विवेदी , सुशीला भारती , पूनम गिरि , साक्षी कौशल , अशोक सिंह , शिवभूषण , सुधीर श्रीवास्तव , प्रमोद मिश्र , रामसजीवन , हौशिलाप्रसाद , मंशाराम वर्मा , हरगोविंद , दीप्ति पाठक , हितलाल निषाद , राममगन नेता , प्रदीप सिंह , शैलेंद्र सिंह , प्रदीप पाण्डेय , आदि सैकडों की संख्या में शिक्षाप्रेरक मौजूद रहे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More