गरीबों के न्याय के साथ नहीं करूंगा समझौता : राजन पाण्डेय

समाजसेवी ने 28 ग्रामसभाओं के गरीब किसानों को दी इलेक्ट्रानिक दवा छिड़काव मशीन

मिल्कीपुर। समाजसेवी राजन पाण्डेय ने अपनी जिला पंचायत अमानीगंज चतुर्थ में आने वाली सभी 28 ग्राम सभाओं के गरीब किसानों के लिए अपने निजी खर्च से इलेक्ट्रानिक दवा छिड़काव करन की मशीन अपने कुमारगंज स्थित आवास पर किसानों को उपलब्ध करवायी। एकत्रित किसानों के चेहरो पर सुकून की मुस्कान देखकर समाजसेवी ने कहा कि मुझे मेरे पंचायत क्षेत्र में जिला पंचायत चुनावों के दौरान जनता ने बहुत ही प्यार से अपने उम्मीदों की मुहर लगाकर प्रदेश में रिकार्ड मतों से जिताया जिसका मै आजीवन कायल रहूंगा। श्री पाण्डेय ने बताया कि दवा छिड़काव के यंत्र की उचित व्यवस्था न होने पर गरीब किसानों की फसलों को बहुत नुक्सान होता है इसलिए इस परेशानी को दूर करने के लिए वह अपनी जिला पंचायत में आने वाली सभी 28 ग्राम सभाओं के लिए इलेक्ट्रानिक दवा छिड़काव मशीन प्रदान कर गरीब जरूरतमन्द किसानों की मदद करने की कोशिश किया है। उन्होंने कहा कि समाज के भ्रष्ट दलालों को हमारे इन जरूतमंद किसानों की समस्याओं से कोई लेना देना नहीं है बल्कि इनके दुखों को उकेरकर घटिया राजनीति करके इनके वोटों को सफलता की सीढ़ी बनाने में भ्रष्टाचारी लोग जरा भी संकोच नहीं करते।
उन्होंने एकत्रित जन समुदाय से कहा कि आप मेरे लिए बस पांच माह मेहनत करिए मै पांच वर्षों तक आपने भाई-बेटे की भांति आपकी समस्याओं को दूर करूंगा। उन्होंने बताया कि मेरे इन्हीं जनहित के कार्यों से चिढ़कर आज समाज के ऊंचे रसूख वाले लोग मेरे व मेरे परिवार के लिए जान का खतरा बने है और षडयंत्र रचकर मेरी आमदनी रोकने का व मुझे रास्ते से हटाने का प्रयास करते रहते है। उन्होंने कहा कि मै किसी भी कीमत पर अपने गरीबों के न्याय के साथ समझौता नहीं करूंगा और न ही झुकूगां। इस अवसर पर मंजीत निषाद, करमचंद देहाती, शत्रुहन निषाद, शिव कुमार पाण्डेय, जे.पी. सिंह, सी.पी. पाण्डेय, शकील बच्च, असलम खां, रामज जियावन तिवारी, विजय कोरी, राजू शर्मा, नन्द लाल निषाद, विपिन निषाद, संजय, मनीष, बृजेश, सन्नी निषाद, संकठा सिंह, अजय पाण्डेय, मुन्ना शुक्ला, हरीश चन्द्र, द्वारिका प्रसाद, अनिल मिश्रा, सुनील तिवारी, विनोद मिश्रा, गिरीश पाठक, आलोक पाण्डेय, आशीष पाण्डेय, अंकित पाण्डेय आदि लोग उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  कृषि मंत्री ने किया विश्वविद्यालय का किया गया निरीक्षण

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More