The news is by your side.

नैक मूल्यांकन पर कुलपति ने छात्र-छात्राओं से किया संवाद

नैक मूल्याकंन में विद्यार्थिंयों की भूमिका अहम : प्रो. मनोज दीक्षित

अयोध्या। डॉ. राममनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय के स्वामी विवेकानन्द सभागार में नैक मूल्याकन के सन्दर्भ में विश्वविद्यालय परिसर के छात्र-छात्राओं से विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने सीधा संवाद स्थापित किया।
इस अवसर पर कुलपति प्रो0 मनोज दीक्षित ने नैक मूल्याकंन से विश्वविद्यालय की शिक्षण व्यवस्था से लेकर आवश्यक संसाधनों, शोध गतिविधियों, पुस्तकालय डिजिटलाइजेशन से लेकर छात्र-छात्राओं द्वारा वांछित सूचनाओं पर विस्तृत चर्चा कर सूचनायें एवं दिशा-निर्देश प्रदान किये। प्रो0 दीक्षित ने बताया कि उत्तर प्रदेश के अधिकांश विश्वविद्यालयों में नैक गे्रडिंग नहीं करायी है। प्रदेश के मात्र 05 से 06 विश्वविद्यालयों ने नैक मूल्यांकित कराया है। अवध विश्वविद्यालय नैक मूल्याकंन के लिए अपनी पूरी तैयारियों में लगा हुआ है। इस प्रक्रिया में 70 प्रतिशत औपचारिकतायें आॅनलाइन पूर्ण की जाती है और 30 प्रतिशत की सूचनायें अन्य माध्यमों के जरिये दी जानी होती है। विश्वविद्यालय को इसके लिए 2017 की गाइडलाइन के अनुरूप कार्य करना होगा। कुलपति ने बताया कि नैक मूल्याकंन में विद्यार्थिंयों की भूमिका को अहम माना गया है। सूचनाओं की वांछित जानकारी नैक सीधे तौर पर छात्र-छात्राओं से एसएमएस एवं ई-मेल के जरिये प्राप्त करेगा। नैक एक निश्चित इलेक्ट्रानिक फारमेट पर प्रश्नावली तैयार कर छात्र-छात्राओं से क्रमवार विश्वविद्यालय की शिक्षण व्यवस्था से लेकर लैब, लाइब्रेरी, सूचना तकनीक की सुविधायें एवं इन्टरनेट कनेक्टीविटी से संबंधित फीडबैक प्राप्त करेगा। प्रो0 दीक्षित ने बताया कि नैक मूल्याकंन की इस प्रक्रिया में छात्र-छात्राओं का शिक्षण परिवेश किस स्तर पर है उसे कई चरणों में परखने के उपरांत ही मूल्यांकित स्तर प्रदान किया जायेगा। विश्वविद्यालय में शिक्षण व्यवस्था के आवश्यक सुधार के लिए नैक द्वारा 124 टोटल इंडीकेटर को पूर्ण करना है। इसी इंडीकेटर के माध्यम से विश्वविद्यालय को ग्रेडिंग प्राप्त होगी। प्रो0 दीक्षित ने बताया कि विश्वविद्यालय नैक मूल्यांकन के लिए अपनी तैयारियां पूर्ण कर रहा है और आवश्यक संसाधनों को अपगे्रड करने के लिए कई टीमों का गठन कर दिया गया है। कार्यक्रम का संचालन नैक समन्वयक प्रो0 फारूख जमाल ने किया।
इस अवसर पर प्रति कुलपति प्रो0 एस0एन0 शुक्ल, कार्यपरिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह, मुख्य नियंता प्रो0 आर0 एन0 राय, प्रो0 अशोक शुक्ल, प्रो0 हिमांशु शेखर सिंह, प्रो0 आशुतोष सिन्हा, प्रो0 नीलम पाठक, प्रो0 एस0के0 रायजादा, डाॅ0 नरेश चैधरी, डाॅ0 शैलेन्द्र वर्मा, डाॅ0 विजयेन्दु चतुर्वेदी, डाॅ0 आर0एन0 पाण्डेय, आशीष मिश्र, रवि मालवीय सहित बड़ी संख्या में परिसर के छात्र-छात्राओं की उपस्थित रही।

Advertisements
Advertisements

Comments are closed.