The news is by your side.

देशभर में व्यापारी बनाएंगे राममय वातावरण : संदीप बंसल

-प्राण प्रतिष्ठा के दिन सभी बाजारों में व्यापारी करेंगे प्रसाद वितरण

अयोध्या। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष संदीप बंसल, नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष रिपन कंसल, प्रदेश मीडिया प्रभारी सुरेश छाबलानी, मुख्य संरक्षक प्रमोद गर्ग, मुकेश अग्रवाल राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य उत्तम बंसल, अनिल मौर्य के साथ बुधवार को श्री राम जन्मभूमि अयोध्या पहुंचे जहां पर आरती पूजन के पश्चात श्री राम जन्मभूमि तीर्थ ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय के साथ बैठक हुई। बैठक के पश्चात पत्रकारों को संबोधित करते हुए संदीप बंसल ने कहा की लगभग 500 सालों के बाद भगवान श्री राम लला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा 22 जनवरी को अयोध्या में होने जा रही है जिसको लेकर पूरे व्यापारी समाज में जबरदस्त उत्साह है 15 से 22 जनवरी तक देश और प्रदेश के सभी बाजारों में बैनर होल्डिंग और भगवे झंडे से बाजारों को राम मय बनाया जाएगा जितने भी मुख्य मार्ग हैं जो अयोध्या को जोड़ते हैं उन सभी बाजारों और मार्गों पर बड़े-बड़े झंडे और स्वागत द्वार लगाए जाएंगे

Advertisements

प्रदेश के विभिन्न बाजारों में एलईडी स्क्रीन के माध्यम से श्री रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह का सजीव प्रसारण कराया जाएगा जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग उसको देख सके इन सब के इतर 12ः30 बजे जब रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह संपन्न हो जाएगा तो सभी बाजारों में व्यापारियों द्वारा प्रसाद वितरण किया जाएगा जिसमें बूंदी, गुड, बताशा और विभिन्न प्रकार के प्रसाद के साधन उपलब्ध रहेंगे।

संदीप बंसल ने कहा की अयोध्या अयोध्या जनपद के आसपास के सभी क्षेत्रों में व्यापारियों को निर्देशित किया गया है की 15 से 22 तारीख के बीच में अयोध्या आने वाला कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे चाहे चाय पिलानी पड़े जलपान कराना पड़े या भोजन यहां के व्यापारीयो को आगे बढ़कर के अयोध्या आने वालों का पूरा ध्यान रखना चाहिए। संदीप बंसल ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ संगठन मुहिम छेड़ने जा रहा है और इसीलिए आज पदाधिकारियां ने श्री रामलला के दर्शन करके यह संकल्प लिया कि हम पारदर्शी तरीके से व्यापार करेंगे भ्रष्टाचार के सामने घुटने टेकने की बजाय भ्रष्टाचार का मुंह तोड़ जवाब देंगे और इसके लिए व्यापारी समाज को तैयार करेंगे।

इसे भी पढ़े  बड़ा दिखने की चाह बन रही टीनेज टोबैको यूज की राह : डा. आलोक मनदर्शन

 

Advertisements

Comments are closed.